देश बिज़नेस

PM मोदी दावों की निकली ‘हवा’, भारत से छिना दुनिया की 5वीं अर्थव्यवस्था का ताज

कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था 2024 तक पाँच ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने का दावा किया है। हालांकि इसी बीच आर्थिक मोर्चे पर भारत के लिए एक निराशाजनक खबर आई है। विश्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक साल 2018 में ब्रिटेन और फ्रांस की अर्थव्यवस्था में भारत के मुकाबले ज्यादा ग्रोथ रिकॉर्ड की गई, जिस वजह से इन दोनों से एक-एक पायदान का छलांग लगाया है। ब्रिटेन 5 पांचवें स्थान पर पहुंच गया है जबकि छठे स्थान पर फ्रांस काबिज हो गया है। जिस वजह से भारत पांचवें स्थान से खिसक कर सातवें पायदान पर आ गया है।

जीडीपी के मामले में अमेरिकी अर्थव्यवस्था टॉप पर बनी हुई है। कारोबारी साल 2018 में यूएस की जीडीपी 20।5 ट्रिलियन डॉलर रही। अमेरिका के बाद दसरे पायदान पर चीन है। इस दौरान चीन की जीडीपी 13।6 ट्रिलियन डॉलर रही। 5 ट्रिलियन डॉलर की जीडीपी के साथ जापान तीसरे पायदान पर है।

आंकड़ों के मुताबिक भारत की अर्थव्यवस्था साल 2018 में महज 3.01 फीसदी बढ़ी, जबकि इसमें साल 2017 में 15.23 फीसदी का इजाफा देखा गया था। इसी तरह ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था 2018 में 6.81 फीसदी बढ़ी। जिसमें साल 2017 में महज 0.75 फीसदी का उछाल आया था। इसके अलावा अगर फ्रांस की बात करें तो साल 2018 में इसकी अर्थव्यवस्था 7.33 फीसदी बढ़ी, जो कि साल 2017 में सिर्फ 4.85 फीसदी बढ़ी थी। इस तरह भारतीय अर्थव्यवस्था 2017 के मुकाबले 2018 में सुस्त रही, जिस वजह से भारत इस रैंकिंग में पिछड़ गया।

बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साल 2019-20 का बजट भाषण देते हुए कई बार देश को अगले पांच साल में ‘फाइव ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी’ यानी 5लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की बात कही। इसके अगले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भी इसी को देश का बड़ा लक्ष्य बताया। वहीं विरोधियों पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा था, ‘कुछ लोग पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाए जाने के लक्ष्य पर भी सवाल उठाएंगे। ‘मैं ऐसे लोगों को पेशेवर निराशावादी कहता हूं। यह लोग आम आदमी से दूर होते हैं और अगर आप उनसे समाधान मांगेंगे तो वह आपको संकट में डाल देंगे।’

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com