बिहार राज्य

उपलब्धि: मिथिला मे पहली बार हुआ कंधे का प्रत्यारोपण

दरभंगा: यूं तो मिथिला के दरभंगा शहर में चिकित्सा के क्षेत्र में नये- नये कार्य होते रहते है, किन्तु सर्राफ आर्थो एवं स्पाइन सेंटर में पहली बार कंधे का प्रत्यारोपण कर हड्डी रोग के इलाज में अपना नया कीर्तिमान स्थापित किया है। नेपाल के सिरहा जिले से आयी 70 वर्षीय महिला का बिजली के करेंट लगने और गिरने से दाहिने कंधे की ऊपरी हिस्से की हड्डी कई टुकड़ो मेँ टूट गयी जिसका इलाज सामान्य तरीके से यानि की प्लास्टर या प्लेटिंग से संभव नहीं था, साथ ही हड्डी ओस्टिओपोरोसिस के कारण हड्डी कमजोर हो गयी थी ।

गत गुरुवार 1 अगस्त 2019 को सर्राफ आर्थो एवं स्पाइन सेंटर में डॉ० एस० एन० सर्राफ, डॉ० अभिषेक सर्राफ एवं उनकी टीम ने कंधे की हड्डी का प्रत्यारोपण कर एक मिसाल कायम की है। ज्ञातव्य है कि मिथिला के चिकित्सा क्षेत्र मेँ यह बड़ी उपलब्धि है, और एक नयी चिकित्सा का आयाम है । इससे कंधा जाम होने एवं हड्डी के नहीं जुडने का खतरा मरीज में नहीं रहता। मरीज अपने कंधे से सारे कार्यो को कर सकता है। यह आपरेशन बहुत ही कम खर्च में कम रिस्क में कराया जा सकता है।

साथ ही मिथिला के लोगों को यह जानकर खुशी होगी कि अब, सर्राफ आर्थो स्पाइन एवं मेटेरनिटी सेंटर मेँ हड्डी रोग, रीढ़ की हड्डी का सामान्य आपरेशन और स्त्री एवं प्रसूति रोग से संबंधित सभी बीमारियों का आयुष्मान भारत के तहत निशुल्क आपरेशन किया जा रहा है।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com