देश राजनीती

अभी-अभी: लगभग 2 साल बाद सोनिया गांधी फीर से बनी कांग्रेस अध्यक्ष, राहुल का इस्तीफा मंजूर

डेस्क: लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद से अध्यक्ष विहीन कांग्रेस को नया अध्यक्ष मिल गया है। ढाई महीने तक बिना अध्यक्ष के रही कांग्रेस को आखिरकार गांधी परिवार से ही नया अध्यक्ष मिल गया है।

सीडब्लूसी की बैठक के बाद रात करीब 11.00 बजे कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला और महासचिव सी. वेणुगोपाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी। वेणुगोपाल ने बताया,  बैठक में सर्वसम्मति से 3 प्रस्ताव पास किए गए।’

कांग्रेस कार्यसमिति में पास हुए पहले प्रस्ताव में राहुल गांधी के नेतृत्व की तारीफ की गई। प्रस्ताव में कहा गया कि राहुल गांधी ने बेबाकी से देश के मुद्दों को उठाया, पार्टी को नई ऊर्जा दी और कांग्रेस के सभी कार्यकर्ताओं को प्रेरित किया। दूसरा प्रस्ताव राहुल गांधी को अध्यक्ष पद न छोड़ने की अपील संबंधी पास किया गया। वेणुगोपाल ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों, विधायक दल के नेताओं, सांसदों और अन्य नेताओं से चर्चा के बाद CWC ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि राहुल गांधी को ही अध्यक्ष बनना चाहिए। हालांकि, राहुल गांधी ने विनम्रता से इसे ठुकरा दिया। बाद में सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनाने का फैसला किया गया। वह नियमित अध्यक्ष चुने जाने तक पार्टी की कमान संभालेंगी।

बता दें कि शशि थरूर, कैप्टन अमरिंदर सिंह, कर्ण सिंह जैसे कांग्रेसी दिग्गजों ने प्रियंका गांधी वाड्रा को अध्यक्ष बनाने की पुरजोर मांग कर चुके हैं। थरूर ने जहां प्रियंका को करिश्माई नेता बताया है, वहीं कर्ण सिंह ने उन्हें ऐसी शख्सियत करार दिया है जो बतौर अध्यक्ष कांग्रेस को एक सूत्र में बांधकर रख सकती हैं। किसी युवा को पार्टी की कमान सौंपने की मांग करने वाले अमरिंदर सिंह ने बाद में प्रियंका को सबसे अच्छा विकल्प बताया। प्रियंका गांधी वाड्रा राहुल गांधी की बहन हैं। उन्होंने बतौर कांग्रेस महासचिव इसी साल पॉलिटिक्स में एंट्री ली है। सोनभद्र नरसंहार मामले में वह हाल ही में योगी सरकार के खिलाफ आक्रामक तेवरों की वजह से चर्चा में थीं और पार्टी के भीतर उनकी तुलना दादी इंदिरा गांधी से की जाने लगी थी।

कांग्रेस के युवा चेहरों में शुमार ज्योतिरादित्य सिंधिया और सचिन पायलट को भी अगले कांग्रेस अध्यक्ष की रेस में माना जा रहे थे। कुछ दिन पहले ही मिलिंद देवड़ा ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए इन दोनों ही नेताओं के नाम की वकालत की थी। बता दें कि दोनों ही युवा नेता राहुल गांधी के करीबी माने जाते हैं।

इससे पहले सीडब्ल्यूसी की बैठक सुबह 11 बजे शुरू हुई। बैठक में राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ-साथ अहमद पटेल, पी। चिदंबरम, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रियंका गांधी वाड्रा, सचिन पायलट, जितिन प्रसाद जैसे नेता शामिल हुए। हालांकि कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक से सोनिया गांधी और राहुल गांधी बाहर आ गए। उनका कहना है कि वह नए अध्यक्ष चुनने को लेकर जारी प्रक्रिया में शामिल नही हैं। नये अध्यक्ष को चुनने के लिए सीडब्ल्यूसी की आज शाम 9 बजे दोबारा बैठक शुरू हुई। जिसमें यह फैसला लिया गया है।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com