Breaking News देश बिज़नेस

70,000 करोड़ रुपए के कर्ज में डूबी एयर इंडिया का ईंधन आपूर्ति बंद, AI प्रमुख ने लिखी मार्मिक पोस्ट…

डेस्क: बकाया राशि का भुगतान नहीं करने के कारण एयर इंडिया को तेल विपणन कंपनियों द्वारा ईंधन आपूर्ति रोक दिए जाने के चलते कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से सोमवार को एयरलाइन के दुबई जाने वाले ड्रीमलाइनर विमान की उड़ान में करीब चार घंटे की देरी हुई। इस घटनाक्रम के बाद एयरलाइन के प्रमुख अश्वनी लोहानी ने फेसबुक पर एक मार्मिक पोस्ट लिखा है।

लोहानी ने कहा, ‘एयर इंडिया की ईंधन आपूर्ति पर लगाई गई रोक उसके पास कुल कोष की कमी की वजह से है। इसका उसके प्रदर्शन से कोई लेना देना नहीं है और न ही यह एयरलाइन द्वारा हाल में किए गए प्रयासों को परिलक्षित करता है। एयर इंडिया पर 31 मार्च, 2019 तक कुल 58,351 करोड़ रुपये का बकाया कर्ज है। सरकार से इस साल किसी भी तरह की राजकोषीय सहायता नहीं मिलने के साथ उसका कुल घाटा करीब 70,000 करोड़ रुपये है।

लोहानी ने कहा कि कंपनी पर बकाया भारी कर्ज उसके कामकाज के हर पहलू को प्रभावित कर रहा है। ऐसे में यह सोचना कि कंपनी अपनी आय के स्रोत से इस ऋण का कुछ हिस्सा चुका भी देगी तो यह उसकी जमीनी हकीकत को समझे बिना उसके इस भारी कर्ज का आकलन करना होगा। उन्होंने कहा कि इन सबके बावजूद ‘हमें ऊंची उड़ान भरने की जरूरत है, भले रास्ते में जो भी (कठिनाई) आए।’

नव भारत टाइम्स की एक खबर के मुताबिक इंडियन ऑइल के नेतृत्व में तीन प्रमुख तेल कंपनियों ने पिछले हफ्ते कोच्चि, पुणे, पटना, रांची, विशाखापत्तनम और मोहाली हवाईअड्डों पर एयर इंडिया की ईंधन आपूर्ति पर रोक लगा दी थी। इसकी वजह कंपनी पर ईंधन का बकाया बढ़कर 5,000 करोड़ रुपये तक पहुंच जाना है।

वहीं एयर इंडिया के एक प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा था, ‘इक्विटी सहयोग के बिना एअर इंडिया अपना बड़ा कर्ज अदा नहीं कर सकती।’ उन्होंने कहा था, ‘बहरहाल, इस वित्त वर्ष में हमारा वित्तीय प्रदर्शन काफी अच्छा है और हम अच्छे मुनाफे की ओर बढ़ रहे हैं। एयरलाइन अपनी देनदारियों के मुद्दों के बावजूद अच्छा प्रदर्शन कर रही है।’

एयर इंडिया को संकट से उबारने के लिए सरकार एयर इंडिया के निजीकरण के रास्ते भी तलाश रही है। लेकिन अबतक सफलता नहीं मिली है। एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए सरकार ने हाल ही में ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स (GoM)का गठन किया है और संभवतः अगले हफ्ते में होने वाली GoM की बैठक होने वाली है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सरकार एयर इंडिया के लिए बोली लगाने वालों को ढूंढ़ रही हैं और एयर इंडिया की 100 फीसदी शेयर बेचने की पूरी तैयारी में है।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com