देश राजनीती

जम्मू-कश्मीर: सियासी उथल-पुथल के बीच PDP को तगड़ा झटका, विधान परिषद के चेयरमैन हाजी इनायत BJP में शामिल

डेस्क: जम्मू-कश्मीर विधान परिषद के चेयरमैन व वरिष्ठ नेता हाजी इनायत अली ने कारगिल पीडीपी जिला इकाई के कुछ नेताओं, कार्यकर्ताओं के साथ भाजपा का दामन थामकर पीडीपी को एक बड़ा झटका दे दिया। हाजी इनायत अली केंद्रीय मंत्री धर्मेंद प्रधान और गजेंद्र सिंह शेखावत की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।

हाजी इनायत अली ने सोमवार को दिल्ली में में पार्टी में शामिल होकर स्पष्ट संकेत दिया कि लेह के बाद अब कारगिल में भी भाजपा मजबूत हो गई है। हाजी के साथ कारगिल से पीडीपी के जिला प्रधान काचू गुलजार अहमद भी अपने समर्थकों समेत भाजपा में आ गए।

कारगिल पीडीपी इकाई के वरिष्ठ नेताओं के भाजपा में आने पर लद्दाख के सांसद जामियांग त्सीरिंग नांग्याल ने भी खुशी का इजहार किया है। उन्होंने पीडीपी के इन दोनों वरिष्ठ नेताओं का भाजपा में शामिल होने पर उनका स्वागत किया।

जम्मू-कश्मीर में सियासी उथल-पुथल के बीच हाजी इनायत अली का बीजेपी में जाना महबूबा मुफ्ती के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। कभी उसकी सहयोगी रही बीजेपी धीरे-धीरे घाटी में अपनी जड़ें मजबूत कर रही है। इससे पहले जुलाई में भी पीडीपी के इस बड़े नेता ने पार्टी का दामन छोड़ दिया था।

पार्टी के वरिष्ठ नेता और पुलवामा जिला अध्यक्ष मोहम्मद खलील बंद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। खलील बंद उन नेताओं में से एक थे, जिन्होंने पीडीपी की स्थापना की थी। उनका ताल्लुक दक्षिण कश्मीर से है, जहां आतंकवाद सबसे ज्यादा है।

उन्होंने एक खत में आरोप लगाया था कि पार्टी ने मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद किस तरह अपने मूल सिद्धांतों के साथ समझौते किए। उन्होंने कहा था कि फैसला लेने वाली प्रक्रिया से पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को बाहर कर दिया गया और स्वार्थ के लिए खुद को तबाह करने वाले फैसले लिए गए। उनका आरोप था कि पीडीपी ने बुद्धिजीवी और अनुभवी नेताओं को दरकिनार कर उन्हें प्रताड़ित किया।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com