उत्तरप्रदेश देश बिज़नेस राज्य

अख़बार और सोशल मीडिया बैंकों के फ्रॉड की ख़बरों से भरे पड़े हैं, लेकिन भाजपा का ध्यान सिर्फ़ और सिर्फ़ राजनीतिक ख़रीद-फ़रोख़्त में लगा है

डेस्क: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)ने गुरुवार को वित्त वर्ष 2018-19 के लिए अपनी वार्षिक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में कई बड़ी बातें सामने आई है। वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकिंग धोखाधड़ी में 74 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और धोखाधड़ी के 6,801 मामले सामने आए हैं। इस दौरान कुल 71,543 करोड़ रुपये के बैंकिंग फ्रॉड हुए। रिपोर्ट में कहा गया है कि बैंकों द्वारा धोखाधड़ी की घटना की तारीख और बैंकों द्वारा इसकी पहचान के बीच औसत अंतराल 22 महीने था।

इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है, ‘अख़बार और सोशल मीडिया बैंकों के फ्रॉड की ख़बरों से भरे पड़े हैं, लेकिन भाजपा का ध्यान सिर्फ़ और सिर्फ़ राजनीतिक ख़रीद-फ़रोख़्त में लगा है। सत्ता की ये भूख बैंकों में जमा जनता के पैसों की चिंता नहीं कर रही है जबकि बचत के रूप में बैंकों में जमा आम आदमी का भविष्य भी ख़तरे में है।’

बता दें कि आरबीआई ने सोमवार को अपने डिविडेंड और सरप्लस फंड से सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये ट्रांसफर करने का ऐलान किया है। इस फंड का इस्तेमाल सरकार इकोनॉमिक ग्रोथ की रफ्तार बढ़ाने के लिए कर सकती है। आरबीआई इस रकम का बड़ा हिस्सा यानी 1.23 लाख करोड़ रुपये सरप्लस फंड से और बाकी 52,637 करोड़ रुपये सरप्लस रिजर्व से ट्रांसफर करेगा। हालांकि विपक्षी दल और कुछ आर्थिक मामलों के जानकार RBI के इस फैसले कि आलोचना कर रहे हैं।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com