बिहार राज्य

1974 के छात्र आंदोलन और बिहार में राजग सरकार के गठन के सूत्रधार थे अरुण जेटली

डेस्क: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे आज पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता स्व अरुण जेटली के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शामिल होकर श्रद्धा–सुमन अर्पित करते हुए उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी।

पुष्पांजलि के उपरांत अपने संबोधन में केंद्रीय मंत्री श्री चौबे ने कहा कि “वर्ष 1974 के ऐतिहासिक छात्र आंदोलन के अरुण जी धुरी थे। 1973 में वह छात्र संघ के संयोजक बनकर पटना आए थे। ऐतिहासिक छात्र आंदोलन यह समय अखिल भारतीय छात्र संघर्ष समिति के संयोजक के तौर पर उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाया था। जयप्रकाश नारायण को इस आंदोलन में शामिल कराने और आंदोलन की योजनाएं बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। योजना बनाने के साथ उसमें सक्रिय रुप से उन्होंने भागीदारी भी की थी जिसके कारण इमरजेंसी के दौरान उन्हें जेल जाना पड़ा था।

Image result for अश्विनी चौबे

इसी तरह वर्ष 2005 में लालू प्रसाद के जंगल राज के खात्मे के साथ बिहार में राजग सरकार के गठन और विकास की नई धारा बहाने में अरुण जेटली जी का बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा था। बिहार भाजपा के राष्ट्रीय प्रभारी के तौर पर राजद के जंगल राज की समाप्ति और नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार के गठन में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। इसलिए आज हम जो बिहार में विकास देख रहे हैं उसमें अरुण जी ने भी अपना योगदान दिया था जिसके लिए सभी विकास पसंद बिहारियों को उनका आभारी होना चाहिए।

अरुण जेटली जी एक जबरदस्त संगठनकर्ता, प्रसिद्ध वकील, भाजपा के समर्पित सिपाही, विद्वान और मानव के रूप में अद्वितीय थे। अपने से बड़े, छोटे और सहयोगियों से उनका आचरण और व्यवहार अनुकरणीय है। मेरे ऊपर तो उनका विशेष स्नेह वर्ष 1972 से ही रहा। हम लोगों ने दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में उनको अध्यक्ष बनाने के लिए और पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में मुझे अध्यक्ष बनाने के लिए परस्पर एक दूसरे का बहुत सहयोग किया था।

उनके असामयिक निधन से मुझे और पूरे भारतवर्ष को बहुत बड़ी क्षति हुई है।मै ऐसी महान दिवंगत आत्मा को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं”।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com