बिहार राज्य

LNMU: जन अधिकार छात्र परिषद ने मांगों को लेकर किया आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन

दरभंगा: आज दिनांक 14-9-19 को जन अधिकार छात्र परिषद के द्वारा पूर्व घोषित राज्यव्यापी कार्यक्रम के तहत ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर एक दिवसीय आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन किया गया। इस दौरान जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय स्थित चौरंगी पर एकत्रित होकर विश्वविद्यालय में व्याप्त शैक्षणिक अराजकता, फीस वृद्धि, यूजी पीजी में सीटों की बढ़ोतरी, सभी विभाग एवं महाविद्यालय में छात्रों की 75% उपस्थिति सख्ती के साथ दर्ज कराने, PET परीक्षा का शुल्क कम कराने, सभी छात्रों को छात्रावास की सुविधा मुहैया कराने, शुद्ध पेयजल और शौचालय सहित सभी मुख्य मांगों को लेकर विश्वविद्यालय मुख्यालय की ओर सैकड़ों की संख्या में नारेबाजी करते हुए कुच किया। जहां छात्रों ने गिरती शिक्षा व्यवस्था और छात्रों को आए दिन हो रहे कठिनाइयों तथा उनके सुविधाओं से वंचित रखने को लेकर काफी आक्रोशित दिखे।

जिसके बाद विश्वविद्यालय मुख्यालय में एक सभा हुई जिसकी अध्यक्षता छात्र परिषद के सोनू खान तथा संचालन प्रदेश उपाध्यक्ष मोहन यादव ने किया वही सभा को संबोधित करते हुए छात्र परिषद के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष दीपक झा ने कहा की आए दिन छात्रों को अपने अधिकार के लिए जूझना पड़ रहा है। लगातार फीस वृद्धि और शिक्षकों की कमी के कारण छात्र गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से दूर होते जा रहे हैं, जिससे मिथिला के छात्रों का भविष्य अंधकारमय होता जा रहा है। अविलंब राज्य सरकार और विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों के इन सभी मूलभूत समस्याओं को दूर करें अन्यथा मिथिला विश्वविद्यालय सहित पूरे बिहार में छात्रों की समस्या को लेकर हर निर्णायक लड़ाई लड़ने को जन अधिकार छात्र परिषद मजबूर होंगे।

वहीं छात्र परिषद् के प्रभारी जेडी यादव ने कहा कि आज का राज्यव्यापी कार्यक्रम सिर्फ सांकेतिक है,अगर मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति हमारे सभी मांगों को गंभीरता से लेते हुए अविलंब छात्रों के इन समस्याओं को दूर नहीं करेंगे तो फिर छात्र हित के मद्देनजर सभी पदाधिकारियों को विश्वविद्यालय में बंधक बनाया जाएगा, और जब तक छात्र का काम नहीं तब तक कोई पदाधिकारी चैन से अपने ऐसी चेंबर में नहीं रह सकता।

वहीं प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक स्टार ने कहा की विश्वविद्यालय में गलत लोगों को सिंडिकेट तथा महत्वपूर्ण पदाधिकारी बनाकर उनके द्वारा गलत निर्णय लिया जाता है। वैसे लोग कभी भी छात्र हित को ध्यान में नहीं रखते केवल अपनी फायदा की बात करते हैं। ऐसे छात्र विरोधी लोगों पर राजभवन एवं विश्वविद्यालय प्रशासन अविलंब कार्रवाई करें। सभा के बाद कुलपति महोदय के द्वारा 5 सदस्यी प्रतिनिधिमंडल वार्ता के लिए बुलाया गया जहां विश्वविद्यालय के कुलसचिव परीक्षा नियंत्रक छात्र कल्याण अध्यक्ष उपकुलानुशासक उपस्थित थे। जिसमें छात्र परिषद के तरफ से प्रतिनिधिमंडल के रूप में प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष दीपक झा, छात्र प्रभारी जेडी यादव, प्रदेश उपाध्यक्ष मोहन यादव, कॉमर्स एवं एमबीए संकाय से परिषद सदस्य साईं कुमार निरुपम, प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक स्टार, जिला अध्यक्ष तौफीक खान छात्र परिषद के अंकित आनंद शामिल थे। वार्ता के बाद छात्र नेताओं ने कहा कि कुलपति महोदय से सभी 11 सूत्रीय मांगों पर गंभीरतापूर्वक वार्ता हुई और उन्होंने आश्वासन दिए सभी मांगों पर गंभीरता से विचार करते हुए छात्र हितों में लागू किया जाएगा।

इस घेराव एवं प्रदर्शन कार्यक्रम में युवा परिषद के चुनमुन यादव चंद्रकांत सिंह यादव इस्माइल अख्तर रोशन झा छात्र परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष विक्की काशिफ प्रदेश महासचिव हरीश सिंह छात्र परिषद के कुणाल पांडे शुभम सिंह विनय मिश्रा, मधुबनी के छात्र परिषद के पप्पू कुमार, सन्नी कुमार राम अवतार यादव विभूति झा अमन आशीष झा आदित्य मिश्रा अभिषेक कुमार विवेक कुमार विवेक कुमार बासु चौधरी कमांडो सरोज कुमार पंकज झा कुंदन साहू चंदन साहू आसिफ रहमान आसिफ आदिल शुभम राज अभिषेक आनंद रितेश यादव शंकर कुमार अमन झा जोहर रहमान विकास सिंह सुमन झा राजा बाबू रमन यादव आयुष सेंटी यादव रितेश सिंह आसिफ रहमान सत्यम यादव सत्यपाल चंद्रा गौतम यादव गोलू कुमार श्याम यादव रंजीत कुमार मुकेश शाह मनजीत छोटू जी सहित 200 छात्रों से अधिक छात्र उपस्थित थे।

राकेश कुमार शाह की रिपोर्ट