Breaking News देश राजनीती

#CitizenshipAmendmentBill2019 का पास होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन: सोनिया गांधी

नागरिकता संशोधन विधेयक को लोकसभा से बंपर वोटों के साथ मंजूरी दिलाने के बाद मोदी सरकार बुधवार राज्यसभा से भी इसे पास कराने में सफल रहे। सदन में नागरिकता संशोधन विधेयक पर चर्चा के बाद वोटिंग हुआ है जिसमें बिल पक्ष में 125 और विपक्ष में 105 वोट पड़ा। अब राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह बिल ऐक्ट में तब्दील हो जाएगा। इस बिल को सोमवार रात को लोकसभा से मंजूरी मिली थी।

बिल पर वोटिंग से पहले इसे सेलेक्ट कमिटी को भेजने के लिए भी मतदान हुआ, लेकिन यह प्रस्ताव गिर गया। सेलेक्ट कमिटी में भेजने के पक्ष में महज 99 वोट ही पड़े, जबकि 124 सांसदों ने इसके खिलाफ वोट दिया। इसके अलावा संशोधन के 14 प्रस्तावों को भी सदन ने बहुमत से नामंजूर कर दिया।

राज्यसभा में कुल सदस्य 245 हैं। लेकिन फिलहाल पांच सीटें रिक्त हैं। जिसके चलते राज्यसभा में कुल सदस्यों की संख्या 240 है। लेकिन स्वास्थ्य कारणों की वजह से 5 सांसद फिलहाल सनद की कार्यवाही से अनुपस्थित हैं। ऐसे में सदन के सदस्यों की कुल संख्या घट कर सिर्फ 235 रह गई। लेकिन वोटिंग में कुल 230 वोट ही पड़े।

बील पास होने के बाद राजनीतक दलों की प्रतिक्रिया भी आना शुरू हो गया है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इसे संवैधानिक इतिहास का काला दिन करार दिया है। उन्होंने कहा है कि यह भारत की बहुलता पर संकीर्णता और बड़ी ताकतों की जीत का प्रतीक है।