देश बिहार राजनीती राज्य

बिहार ने बनाया मानव श्रृंखला का विश्‍व रिकार्ड, एक शिक्षक की मौ’त

डेस्क:बिहार में जल-जीवन-हरियाली, नशामुक्ति, बाल विवाह एवं दहेज प्रथा उन्मूलन के खिलाफ रविवार को विश्व की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला बनाई गई। तकरीबन 4.25 करोड़ लोगों की भागीदारी के साथ 16 हजार किमी से अधिक लंबी कतार बनाकर बिहार ने विश्व कीर्तिमान स्थापित किया है।

पूर्वाह्न 11.30 बजे से दोपहर 12 बजे तक आधे घंटे तक जब 4.25 करोड़ से अधिक लोग एक-दूसरे का हाथ थामेे खड़े हुए तो विश्‍व रिकार्ड तो बनना ही था। रिपोर्टस के मुताबिक एक-दूसरे के हाथ थामे इन लोगों की संख्या कानाडा व आस्‍ट्रेलिया सहित विश्‍व के 192 देशों की आबादी से बड़ी थी।

मानव श्रृंखला का मुख्‍य कार्यक्रम पटना के गांधी मैदान में हुआ, जहां मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में इसका आरंभ किया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी के अलावा के बिहार सरकार के आला अधिकारियों का दल भी एक दूसरे के हाथ से हाथ जोड़े खड़े रहे।

बता दें कि इससे पहले 2017 में शराबबंदी अभियान को सफल बनाने के लिए बिहार में 11292 किमी लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई थी, जिसके रिकार्ड को बिहार वासियों ने दहेज प्रथा एवं बाल विवाह के खिलाफ 13654 किमी लंबी मानव श्रृंखला बनाकर तोड़ा था। एकबार फिर बिहार ने लगभग 16 हजार किलोमीटर का मानव श्रृंखला बनाकर अपना ही रेकॉर्ड तोड़ा है।

इस बार की मानव श्रृंखला के लिए हेलीकाॅप्टर से फोटोग्राफी की गई, जिसे गिनिज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकार्ड को भेजा जाएगा। मानव श्रृंखला के सफल आयोजन के लिए नोडल शिक्षा विभाग ने सभी विभागों को इसमें शामिल होने का निर्देश दिया गया था। इसके चलते रविवार को सभी सरकारी दफ्तर खोले गए।

मानव श्रृंखला की सफलता के बीच एक दुखद खबर सामने आई है। जानकारी के मुताबिक दरभंगा में मानव श्रृंखला के लिए कतार में शामिल एक शिक्षक की मौ’त हो गई है। मृतक शिक्षक की पहचान मोहम्मद दाऊद के रूप में की गई है। वह उर्दू विद्यालय के शिक्षक थे।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com