Breaking News देश राजनीती

बड़ी खबर : शरजील इमाम के समर्थन में उतरे JNU और जामिया के छात्र, कहा-शरजील तुम संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं

डेस्क: असम को देश के बाकी हिस्सों से काटने वाला विवादित भाषण का एक वीडियो वायरल होने के बाद जेएनयू के पूर्व छात्र और कथित तौर पर शाहीन बाग प्रदर्शन के मुख्य आयोजक शरजील पर पुलिस का लगातार शिकंजा कसता जा रहा है। उसके खिलाफ यूपी, दिल्ली, अरूणाचल और असम समेत 6 राज्यों की पुलिस ने केस दर्ज किया ह।

उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने बिहार के जहानाबाद जिला स्थित उसके पैतृक आवास समेत असम, अरुणाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और मणिपुर में छापेमारी की है। लेकिन अबतक कोई सफलता हाथ नहीं लगी है।

इस बीच JNU और जामिया में शरजील के पक्ष में नारेबाजी की घटना सामने आई है। आजतक के एक रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार को 9 बजे के आसपास जेएनयू में एक मार्च शुरू हुआ। यह मार्च गंगा ढाबा से शुरू होकर साबरमती ढाबे और फिर चंद्रभागा तक गया. मार्च के दौरान प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की और कहा, ‘शरजील इमाम जिंदाबाद. शरजील तुम संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं।’

इमाम के समर्थन में सैकड़ों छात्रों ने हाथों में पोस्टर-बैनर लेकर मार्च निकाला। इस मार्च में एनआरसी, सीएए और भारत सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई. इमाम के समर्थन में निकाले गए मार्च में एक विवादित वीडियो भी वायरल है, जिसमें जेएनयू की काउंसलर आफरीन फातिमा दिख रही हैं।

मार्च खत्म होने के बाद आफरीन फातिमा समेत कई छात्रों ने शरजील इमाम के समर्थन में अपनी-अपनी बातें रखीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि शरजील मामले में देशद्रोह वाली कोई बात नहीं है और ना ही किसी धर्म विरोध की बात है। साथ ही इन छात्रों ने इमाम के खिलाफ दर्ज हुए सभी मुकदमों को वापस लेने की मांग की।

शरजील इमाम के लिए JNU में लगे 'ज़िंदाबाद' के नारे, गंगा ढाबे से चंद्रभागा हॉस्टल तक निकला मार्च

भाषण के दौरान एक छात्रा ने कहा कि शरजील इमाम ने एक स्पीच दी और मीडिया ने उस वीडियो को छेड़छाड़ करके चलाया। उसका मीडिया ट्रायल किया जा रहा है. शरजील भाई सिर्फ एक चेहरा है। शरजील भाई ने शाहीन बाग प्रोटेस्ट की शुरुआत की. फरहीन फातिमा का भी मीडिया ट्रायल हो रहा है।

उनके पिता मरहूम अकबर इमाम जेडीयू के नेता रह चुके हैं। पिता अकबर इमाम एक बार जेडीयू के टिकट पर जहानाबाद से विधान सभा का चुनाव भी लड़ चुके थे। हालांकि आरजेडी के सच्चिदानंद यादव से हार गए थे। परिवार में शरजील की मां अफशां रहीम और एक छोटा भाई है जो जहानाबाद से रालोसपा के पूर्व सांसद अरुण कुमार के साथ रहता है।

विदित हो कि शरजील इमाम का एक वीडियो वायरल हो गया है, जिसमें वह कहता है कि अगर संगठित लोग हों तो हम असम से भारत को हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं। फिर कहता है कि हमेशा के लिए नहीं तो एक-दो महीने के लिए तो असम को भारत से काट ही सकते हैं। वीडियों में वह लोगाेें से यह कहता दिख रहा है कि रेलवे ट्रैक पर इतना मलबा डालो कि हटाने में एक महीना लगे। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है।