Breaking News देश बिहार राज्य

बिहारी टैलेंट को सलाम ! देश के खातिर 3 बार नासा का ऑफर ठुकरा चूका है बिहार का यह लाल

डेस्क: 14 साल की उम्र में यंगेस्ट साइंटिस्ट ऑफ इंडिया के खिताब से नवाजा जा चुके गोपाल ने पिछले दिनों नासा का ऑफर ठुकरा दिया है। अमेरिकन स्पेस एजेंसी NASA नासा, जहां जाने और जिससे जुड़ने के सपने न जाने कितने वैज्ञानिक देखते होंगे, वहां जाने से इस होनहार ने एक झटके में मना कर दिया।

बिहार के भागलपुर के ध्रुवगंज गांव में रहने वाले 19 वर्षीय गोपाल अब 3 बार नासा का ऑफर ठुकरा चुके हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी उन्हें न्योता दिया, लेकिन वे टस-से-मस नहीं हुए। वो कहते हैं देश की सेवा करना ही मेरा लक्ष्य है।

इस युवा वैज्ञानिक का लक्ष्य भारत में युवा वैज्ञानिकों की फौज तैयार करना है। उन्होंने हर साल देश के 100 बच्चों को मदद देने का फैसला किया है। 2019 में उन्होंने यह कार्य शुरू किया। 8 बच्चों के आविष्कार का उन्होंने प्रोविजनल पेटेंट भी करवाया। फिलहाल, गोपाल देहरादून सरकारी ग्राफिक एरा इंस्टीट्यूट की लैब में अनुसंधान और शोध कार्य में जुटे हैं। वह झारखंड में लैब बनाकर वहां रिसर्च करेंगे।

युवा वैज्ञानिक गोपाल को अप्रैल महीने में अबुधाबी में होने वाले विश्‍व के सबसे बड़े साइंस फेयर में मुख्‍य वक्‍ता के तौर पर आमंत्रित किया गया है। यहां दुनियाभर के 5 हजार से अधिक वैज्ञानिकों के सामाने गोपाल जी अपनी प्रतिभा की ओज दिखाएंगे।

Image result for gopalji scientist

गोपाल ने मॉडल हाईस्कूल तुलसीपुर से 12वीं तक की पढ़ाई की। 2013-14 में बनाना बायो सेल के आविष्कार के लिए उन्हें इंस्पायर्ड अवॉर्ड मिला। 2008 में उनके गांव में बाढ़ आई। सब कुछ बर्बाद हो गया। किसान पिता प्रेमरंजन कुंवर ने कहा कि दसवीं के बाद नहीं पढ़ा सकूंगा। गोपाल ने हिम्मत नहीं हारी। उन्होंने सोचा, कुछ ऐसा करें, जिससे स्कॉलरशिप मिले। 31 अगस्त 2017 को गोपाल ने पीएम मोदी से मुलाकात की। पीएम ने उन्हें एनआईएफ, अहमदाबाद भेजा। उन्होंने यहां 6 आविष्कार किए। अब उनका नाम दुनिया के 30 स्टार्टअप साइंटिस्ट में है।

वे अब तक 10 बड़े आविष्‍कार कर चुके हैं। इनमें केले के पेड़ से बिजली का उत्‍पादन और पानी में तैरने वाली ईंटें सर्वाधिक चर्चित रहीं। गोपालजी के अन्‍य आविष्‍कारों में गोपोनियम एलॉय, बनाना बायो सेल, पेपर बायो सेल, गोपा अलस्‍का, लीची वाइन, हाइड्रोइलेक्ट्रिक बायो सेल, जी स्‍टार पाउडर, सोलर मील शामिल है। इसमें से कई आविष्‍कारों का उन्‍होंने पेटेंट भी हासिल कर लिया है। वे फिलहाल आई स्‍मार्ट के ब्रांड अंबेसडर हैं।