बिहार राजनीती राज्य

Bihar Budget 2020: मिथिला क्षेत्र को मिला सौगात, मधुबनी-सहरसा-सीतामढ़ी-समस्तीपुर समेत कई जिलों के लिए खुशखबरी

डेस्क: वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बिहार के वित्तमंत्री सुशील मोदी ने मंगलवार को बिहार विधानसभा में बजट पेश किया। वित्तमंत्री ने बजट भाषण की शुरूआत ‘हर बार चुनौतियों को हराते हैं हम, जख्म कितना भी गहरा हो मुस्कुराते हैं हम’ स शेर के पंक्तियों के साथ शुरू की। उन्होंने कहा कि पिछले साल की तुलना में 11 हजार करोड़ ज्यादा है बजट। 2004-05 की अपेक्षा इस वर्ष के बजट आठ गुना ज्यादा। 2004-05 में राज्य का बजट 23 हज़ार 885 करोड़ था। इस बार का बजट 2.11 लाख करोड़ से अधिक का है।

उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया मंदी के दौरा से गुजर रही है। इसका असर भारत पर भी पड़ने की आशंका है। इसके बावजूद बिहार ने 2019-20 में 15.01 विकास दर हासिल किया है। इस बार की बजट में कृषि, स्वास्थ्य और पर्यावरण पर विशेष जोर दिया गया है।

कृषि को 3152.81 करोड़ एवं पशुपालन को 1178.92 करोड़ दिए 12 जिलों में जैविक खेती के लिए 155.88 करोड़ का प्रावधान वहीं चार हजार से अधिक टोलों को जोडऩे पर 2888 करोड़ होगा खर्च।

नौ अगस्त 2020 को एक दिन में दो करोड़ 51 लाख लगेंगे पौधे। साढ़े पांच हजार स्कूलों में कक्षा 9-10 के लिए स्मार्ट क्लासरूम बनेंगे अप्रैल 2020 से सभी 8,386 पंचायतों में नौवीं की पढ़ाई शुरू होगी ।

स्वास्थ्य क्षेत्र पर विशेष फोकस किया गया है। इसके तहत उत्तर बिहार (मिथिला क्षेत्र) के कई जिलों के अस्पताल को अपग्रेड करने का प्रस्ताव है।

इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, शेखपुरा, पटना को सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के रूप में विकसित करने के लिए कुल बेड की वर्तमान संख्या 1,032 से बढ़ाकर 2,732 की जायेगी। 500 बेड के निर्माणाधीन अस्पताल के अतिरिक्त 513.21 करोड़  की लागत से 1,200 बेड के नये अस्पताल भवन का निर्माण किया जायेगा।

लगभग 172.95 करोड़ रुपये की लागत से 9 जिला अस्पतालों यथा-आरा, अररिया, वैशाली, औरंगाबाद, बांका, पूर्वी चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी एवं सहरसा का मॉडल अस्पताल के रूप में अपग्रेड करने का प्रस्ताव है।

वहीं वर्ष 2020-21 में 12 जिला अस्पतालों यथा-बेगूसराय, भागलपुर, गया, गोपालगंज, मधेपुरा, मुजफ्फरपुर, मुंगेर, नालन्दा, पटना, रोहतास, समस्तीपुर एवं सिवान का भी अपग्रेड किया जाएगा।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com