देश नई दिल्ली राजनीती राज्य

राजनीतिक विश्लेषक आशुतोष का अंकित शर्मा के हत्यारे ताहिर हुसैन के साथ क्या संबंध है ? पढ़ें…

डेस्क: राजधानी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर हुई हिंसा को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। विपक्षी दल इसके लिए बीजेपी और गृह मंत्री अमित शाह के अंदर आने वाली दिल्ली पुलिस को जिम्मेदार ठहरा रही है। वहीं बीजेपी इसके लिए विपक्षी दलों को।

इस बीच बीजेपी आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष पर निशान साधा है। अमित ने अपने ट्विटर हैंडल पर आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा के हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन के साथ आशुतोष को फोटो शेयर करते हुए लिखा है, ‘खून और दंगों का आरोपी ताहिर हुसैन प्रखर राजनैतिक विश्लेषक आशुतोष के साथ..सुचिता का पाठ पढ़ाने वाला आशुतोष, पिछले एक हफ़्ते से TV पर दिल्ली में हुए दंगो पर अपना ‘विश्लेषण’ दे रहा है पर एक बार भी दरिंदे ताहिर के साथ अपने सम्बंधों का खुलासा नहीं किया…Talk about ethics, anyone?’

हालांकि आशुतोष में अपने लेख में दिल्ली हिंसा के लिए केजरीवाल पर निशाना साधते हुए लिखा कि केजरीवाल को दिल्ली का सीएम होने के नाते हिंसा प्रभावित इलाकों में जाना चाहिए था। इससे स्थानीय लोगों को भरोसा मिलता, लेकिन उन्होंने घर बैठना उचित समझा। केजरीवाल ने दंगों को लेकर केन्द्र सरकार के खिलाफ कोई बयानबाजी भी नहीं की।

बता दें कि आशुतोष पत्रिकारिता छोड़कर आम आदमी पार्टी के साथ राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की थी। लेकिन बाद में उनका राजनीति और अरविंद केजरीवल से मोहभंग हो गया। और 2015 में वे राजनीति को अलविदा कह दिए।

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून(CAA) को लेकर फैली हिंसा की चपेट में आने से अब तक 46 लोगों की मौत हो चुकी है। हिंसा में घयाल कई लोगों का अभी भी इलाज चल रहा है। इसमें गुरु तेग बहादुर हॉस्पिटल में 38, लोक नायक हॉस्पिटल में 3, जग परवेश चंदर हॉस्पिटल में एक और डॉक्टर राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल में चार लोगों की मौत हुई है। हिंसा के बाद से कई लोग लापता हैं। दिल्ली पुलिस गुमशुदा लोगों की तलाश में जुटी है। इस हिंसा में दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल और खुफिया विभाग के कर्मचारी अंकित शर्माकी भी मौत हो गई।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com