देश बिज़नेस

मोदी सरकार का ‘होली गिफ्ट’! 6 करोड़ कर्मचारियों को दिया बड़ा झटका, PF पर घटाई ब्‍याज दरें

डेस्क: ईपीएफओ ने वर्ष 2019-20 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि (EPF ) पर ब्याज दर कम कर दी है। अब नई ब्याज दर 8.50 फीसद है, जबकि पिछले साल 2018-19 में यह दर 8.65 फीसद था। श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने ईपीएफओ के ब्याज दरों में घटोतरी का ऐलान किया। इस तरह मोदी सरकार ने होली से पहले देश के करीब 6 करोड़ कर्मचारियों को झटका दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन निवेश पर कम रिटर्न मिलने की वजह से पीएफ जमा पर ब्याज दर घटाया गया है। इसका असर ये होगा की अब वेतनभोगियों के पीएफ जमा पर कम ब्याज मिलेगा।

देश में ईपीएफओ की पीएफ योजनाओं में करीब 6 करोड़ कर्मचारी जुड़े हैं. गौरतलब है कि सरकार इस साल राजस्व की तंगी से जूझ रही है। कर राजस्व और विनिवेश दोनों से होने वाली आय लक्ष्य से कम है। श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने कहा, ‘ईपीएफओ ने वर्ष 2019-20 के लिए ईपीएफ जमा पर 8.5 फीसदी की दर से ब्याज देने का निर्णय लिया है। यह निर्णय आज होने वाली केंद्रीय ट्रस्टी बोर्ड की बैठक में किया गया।’

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ईपीएफओ के लिए इस साल ब्याज दरें बनाए रखना मुश्किल है, क्योंकि बॉन्ड, लॉन्ग टर्म एफडी से ईपीएफओ को जो रिटर्न मिलता है उसमें सालभर में 50-80 आधार अंकों की कमी आई है। ये फैसले ईपीएफओ को हुए मुनाफे के आधार पर लिया गया है।

बता दें कि बीते मार्च, 2019 में समाप्त वित्त वर्ष के लिए ईपीएफओ ने 8.65 फीसदी ब्याज दर का ऐलान किया था। वित्त वर्ष 2017-18 में ईपीएफओ ने अपने अंशधारकों को 8.55 फीसदी की दर से ब्याज दिया था। इस साल ईपीएफओ ने पांच साल में सबसे कम 8.55 फीसदी की दर से ब्याज उपलब्‍ध कराया था। वहीं 2016-17 में ईपीएफ पर ब्याज दर 8.65 फीसदी पर था। जबकि 2015-16 में 8.80 फीसदी की दर से ब्‍याज मिलता था। इसी तरह, 2013-14 और 2014-15 में ईपीएफ पर 8.75 फीसदी का ब्याज दिया गया था। तो 2012-13 में ईपीएफ पर ब्याज दर 8.50 फीसदी रही थी।