देश बिहार राज्य

महिला दिवस पर बिहार की बेटी को सलाम ! आसमान में भावना कंठ ने रच दिया था इतिहास

डेस्क: देश की पहली महिला फाइटर बनकर बिहार की बेटी भावना कंठ ने इतिहास रच दिया था। बिहार के दरभंगा जिले की भावना कंठ इस वक्त बीकानेर के नाल में तैनात हैं। भावना फाइटर स्क्वॉड्रन में नवंबर 2017 में शामिल हुई थीं और पहली बार अकेले मिग-21 को पिछले साल मार्च में उड़ाया था।

भावना सिंह इस उपलब्धि पर भावना ने कहा था, ‘मेरा बचपन का सपना था कि मैं लड़ाकू विमान की पायलट बनूं। जहां चाह होती है, वहां राह होती है। महिला और पुरुष में कोई अंतर नहीं होता है। दोनों में एक ही तरह की हुनर, क्षमता क्षमता होती है कोई भी खास अंतर नहीं होता है।’

भावना भारतीय वायु सेना के पहले बैच की महिला फाइटर पायलट हैं। उनके साथ दो अन्य महिला पायलट अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह को 2016 में फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में चुना गया था। एक साल से कम समय में ही सरकार ने प्रयोग के तौर पर महिला पायलटों के लिए यु’द्ध मिशन में शामिल होने का रास्ता खोलने का निर्णय लिया था।

2016 में भावना कंठ के साथ अवनि चतुर्वेदी के साथ-साथ मोहना सिंह और भावना कांत को इस काम के लिए चुना गया था। इसके पहले 2016 के पहले भारतीय वासुसेना में महिलाओं को फाइटर प्लेन चलाने की अनुमति नहीं थी। मगर अनुमति मिलने के दो साल बाद ही भावना पहली महिला फाइटर पायलट बन गईं।

अवनी चतुर्वेदी शहडोल की रहने वाली हैं और उनकी स्कूलिंग यहीं हुई है। अवनि ने राजस्थान की वनस्थली यूनिवर्सिटी से बीटेक किया था। उनके पिता दिनकर प्रसाद चतुर्वेदी इंजीनियर हैं और मां सविता हाउसवाइफ हैं। अवनी के परिवार में उनके भाई इंडियन आर्मी में हैं। बचपन में अपने भाई को आर्मी यूनिफॉर्म में देखकर अवनी की भी आर्मी ज्वाइन करने की इच्छा होती थी।

इस उपलब्धि के बाद अवनी ने कहा था, हर किसी का सपना होता है कि वो उड़ान भरें। अगर आप आसमान की ओर देखते हैं तो पंछी की तरह उड़ने का मन करता है। वह कहती हैं, ‘आवाज की स्पीड में उड़ना एक सपना होता है और अगर ये मौका मिलता है तो एक सपना पूरे होने के सरीखा है।’

मोहना सिंह मध्यप्रदेश की रहने वाली हैं। दिल्ली के एयरफोर्स स्कूल से अध्ययन करने वाली मोहना सिंह के पिता भी भारतीय वायुसेना में हैं। मोहना ने यह उपलब्धि हाशिल करने के बाद कहा था, ‘मैं तो ट्रांसपोर्ट विमान उड़ाना चाहती थी, लेकिन मेरे ट्रेनर ने मुझे लड़ाकू विमान के लिए प्रेरित किया. लड़ाकू विमानों का करतब और उनकी तेजी की वजह से मैं यहां पर हूं।’

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com