उत्तरप्रदेश देश राज्य

महिला दिवस: बेटे की चाहत में पति ने प्राइवेट पार्ट में डाल दिया था तेजा’ब, अब नानी बन चुकी है रेशमा

डेस्क: अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आज हम एक ऐसी महिला की कहानी बता रहे हैं, जो किसी के भी रंगोटे खड़े करने के लिए काफी है।

कानपुर की रहने वाली ऐ’सिड अटैक सर्वाइवर रेशमा की शादी वर्ष 1998 में लखनऊ निवासी मोहम्मद नसीम से हुई थी। शादी के बाद के रेशमा को पांच बेटियां हुईं। वर्ष 2013 वह छठवीं बार गर्भवती थीं। मोहम्मद नसीम जानना चाहता था कि रेशमा के गर्भ में पल रही संतान लड़का है या फिर लड़की। रेशमा को इस बात का डर था कि कहीं फिर से लिंग परीक्षण में बिटिया मिली तो नसीम गर्भपा’त करा देगा।

नसीम ने रेशमा पर दबाव भी बनाया कि वह लिंग परीक्षण कराएं। हालांकि, रेशमा ने इस बात से इनकार कर दिया था। तारीख थी 24 जुलाई 2013 नसीम आगबबूला होकर घर पहुंचा। पांच बेटियों की शक्ल देखकर वह रेशमा के पास गया और पत्नी से मारपीट शुरू कर दी। इसी दौरान वह तेजा’ब ले आया और रेशमा के प्राइवेट पार्ट में ऐसि’ड डाल दिया।

वो 3 दिन तक उसी कमरे में पड़ी रही, कोई हाल लेने वाला नहीं था। फिर उसकी बेटी ने अपने नाना को फोन किया तो वे आए और अपनी बेटी को लेकर कानपुर चले गए। रेशमा के पिता ने कानपुर में उसका इलाज करवाया। इलाज के दौरान उसके शरीर से 500 ग्राम मांस का लोथड़ा निकाला गया। और एक बेटे को जन्म दिया।

एक समय ऐसा आय कि उनके पास बच्चे के लिए दूध तक का पैसा नहीं था। रेशमा ने जान देने की सोचा ली थी। रेलवे ट्रैक तक गई लेकिन पांच बेटियां और बेटा की याद ने उसे ऐसा नहीं करने दिया। जिसके बाद वो सिलाई करने लगी। फिर एक दिन समाजवादी पार्टी (एसपी) के प्रमुख अखिलेश यादव का फोन आया। उन्होंने रेशमा को तीन लाख रुपये का चेक दिया।

NBT ऑनलाइन से बातचीत में रेशमा बताती हैं, कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। मेरे पति को 10 साल की सजा हुई थी लेकिन वह छह साल बाद जेल से बाहर आ गए। उन्हें अपनी गलतियों का एहसास हुआ। मैं अब फिर से उन्हीं के साथ रहने लगी हूं। उन्हें अब मेरी फिक्र है।

उन्होंने आगे कहा, ‘लोगों के सवाल होते हैं कि मैं फिर क्यों अपने पति के साथ रह रही हूं। मैं मानती हूं उन्हें अपनी गलती का पछतावा है। उन्हें बेटे का जुनून था, वह भी उन्हें मिल गया। आज मैं पांच बेटियों में से एक की शादी कर चुकी हूं और नानी भी बन गई हूं। आज मेरी जिंदगी बहुत अच्छी हो गई है।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com