देश बिज़नेस

5 ट्रिलियन इकोनॉमी के सपने को बड़ा झटका, रेटिंग एजेंसी मूडीज ने फिर घटाया विकास दर

डेस्क: प्रधानमंत्री मोदी एवं वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण बार-बार 5 ट्रिलियन इकोनॉमी की बात कर रहे हैं। लेकिन रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने एक महीने में दूसरी बार भारत के विकास दर अनुमान को घटा दिया है। एजेंसी ने 2020 के लिए भारत की विकास दर 5.3 फीसदी रहने का अनुमान जताया है। इससे पहले उसने 17 फरवरी को इसे घटाकर 6.6 फीसदी से 5.4 फीसदी कर दिया था।

मूडीज ने भारत के अलावा  2020 के लिए चीन के विकास दर अनुमान को 5.2 फीसदी से घटाकर 4.8 फीसदी कर दिया है। वहीं, अमेरिका के विकास दर अनुमान को 1.7 फीसदी से घटकर 1.5 फीसदी कर दिया गया है। मूडीज ने जी20 देशों की विकास दर 2020 में 2.1 रहने का अनुमान जताया है, जो पहले के अनुमान से 0.3 फीसदी कम है।

मूडीज ने कहा कि कोरोनावायरस के कारण लोगों में व्याप्त डर और वैश्विक अर्थव्यवस्था को समग्र रूप से हो रहे नुकसान को देखते हुए विभिन्न देशों के विकास दर में और गिरावट आ सकती है। 2020 में तेल की कीमतें भी 40-50 डॉलर प्रति बैरल के दायरे में रह सकती हैं। रेटिंग एजेंसी ने कहा कि कोरोनावायरस पर काबू नहीं पाया गया तो स्थितियां और बदतर होंगी।

रेटिंग एजेंसी का अनुमान है कि कोरोना वायरस के प्रकोप से दुनियाभर में घरेलू मांग में कमी आएगी। मूडीज ने मार्च के लिए अपने ग्लोबल मैक्रो आउटलुक में कहा कि वायरस का प्रकोप चीन के बाहर कई प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में तेजी से फैल गया है।

मूडीज अमेरिका की एक कंपनी है, जो बिजनेस और आर्थिक मामलों से जुड़ी हुई है। इस कंपनी की स्थापना साल 1909 में जॉन मूडी ने किया था। इस कंपनी को बनाने के पीछे जॉन मूडी का मकसद था स्टॉक मार्केट और बॉन्ड की रेटिंग बताना। ये एजेंसी 100 से भी अधिक आर्थिक विशेषज्ञों के साथ किसी देश की रेटिंग तय करते हैं। हालांकि, इसके लिए कोई भी फॉर्मूला नहीं है। इसके अलावा रेटिंग एजेंसी देश में आर्थिक सुधारों और उसके भविष्य के प्रभाव को भी ध्यान में रखता है।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com