देश मध्यप्रदेश राजनीती राज्य

बड़ी खबर: बीजेपी में शामिल होते ही कमलनाथ सरकार ने सिंधिया की मुश्किलें बढ़ाई, जमीन घोटाले की जांच शुरू

डेस्क: मध्यप्रदेश के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने साथ ही कमलनाथ सरकार ने उनकी मुश्किलें बढ़ा दी है। भोपाल के आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (EWO) ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के कथित जमीन घोटाले मामले में फिर से जांच शुरू कर दी हैं।10 हजार करोड़ की जमीन के घोटाले का है मामला। एक ही जमीन को कई बार बेचने का आरोप है, सरकारी जमीन को भी बेचने का आरोप है।

बता दें कि पहली दफा यह शिकायत 26 मार्च 2014 में की गई थी। जिसकी जांच के बाद इसे 2018 में बंद कर दिया गया था। शिकायतकर्ता ने आज, 12 मार्च, 2020 को फिर से हमें आवेदन दिया है।

शिकायतकर्ता श्रीवास्तव ने बताया कि सिंधिया और उनके परिजनों ने वर्ष 2009 में महलगांव ग्वालियर की जमीन खरीदकर रजिस्ट्री में फर्जीवाड़ा कर आवेदक की 6000 वर्गफीट जमीन कम कर दी थी। इसी तरह सिंधिया देवस्थान के चेयरमेन और ट्रस्टियों ने महलगांव जिला ग्वालियर की सरकारी जमीन को प्रशासन के सहयोग से फर्जी दस्तावेज तैयार कर बेच दिया था। इन मामलों की जांच में कोई तथ्य नहीं मिलने के कारण नस्तीबद्घ कर दिया गया था, लेकिन अब दोबारा इस मामले में शिकायत की गई है। अब इस मामले में ईओडब्ल्यू ने दोबारा जांच शुरू कर दी है।

वहीं इस मामले में सिंधिया समर्थक और पूर्व कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी का कहना है कि वैसे तो सिंधिया या उनके परिवार ने कभी किसी जमीन को लेकर फर्जीवाड़ा नहीं किया है, फिर भी सरकार चाहे तो जांच करा करा ले। इस मामले में पहले भी जांच हो चुकी है, तब भी कोई तथ्य नहीं निकला था। सिंधिया को कानून और न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है। सरकार बदले की भावना से काम कर रही है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को ही भारतीय जनता पार्टी जॉइन की थी। बीजेपी जॉइन करने के बाद ज्योतिरादित्य को एमपी से राज्यसभा का प्रत्याशी बनाया गया था। अपनी उम्मीदवारी की घोषणा होने के बाद गुरुवार को ज्योतिरादित्य भोपाल पहुंचे, जहां उन्होंने एक विशाल रोड शो और बीजेपी कार्यालय में एक कार्यक्रम को संबोधित भी किया।

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com