देश मध्यप्रदेश राज्य

बड़ी खबर: सियासी सं’कट के बीच मध्य प्रदेश में दो अस्थाई जे’ल ! स्पीकर ने राज्यपाल को लिखा पत्र, कहा- यह चिंता का विषय

डेस्क: मध्य प्रदेश में सियासी गतिरोध कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अब विधानसभा के स्पीकर प्रजापति ने राज्यपाल लालजी टंडन को लिखा पत्र। स्पीकर ने राज्यपाल से विधायकों को वापस लाने की मांग की। स्पीकर ने आगे कहा कि लापता सदस्यों के इस्तीफे ना तो उनके परिजन लाए और ना ही उनका कोई निकट संबंधी। उनके इस्तीफे दूसरे दल के नेताओं के द्वारा लाए गए हैं। यह चिंता का विषय है।

वहीं मध्य प्रदेश में राजनीतिक उठापटक के बीच कानून व्यवस्था बिग’ड़ने का खतरा के मद्देनजर। 13 अप्रैल तक 2 अस्थायी जे’ल बनाए गए हैं।

इससे पहले प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता शिववराज सिंह चौहान राज्यपाल से मुलाकात के बाद कहा कि मध्यप्रदेश सरकार को पता है कि इनके पास अब बहुमत नहीं है, लेकिन लगातार संवैधानिक पदों पर नियुक्ति की जा रही है। कुछ अधिकारी इनके कहने पर काम कर रहे हैं, मैं आज उनको चेतावनी देना चाहता हूं कि एक-एक की सूची बना रहा हूं, उनसे निपटा जाएगा, एक-एक का हिसाब किया जाएगा’

बता दें कि कांग्रेस के बागी विधायकों ने मंगलवार को बेंगलुरु में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। विधायक गोविंद सिह राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कभी हमारी 15 मिनट भी नहीं सुनी तो अपने क्षेत्र के विकास की बात किसके सामने रखें। वहीं विधायक इमरती देवी ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ही हमारे नेता हैं। उन्होंने हमें बहुत कुछ सिखाया है। चाहे कुएं में कूदना पड़े लेकिन हम उनके साथ ही रहेंगे। एक अन्य विधायक ने कमलनाथ पर वादों को पूरा न करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार बनने के समय कमलनाथ ने वादा किया था कि जिस आदिवासी लड़की की शादी होगी, उसे 51 हजार रुपये दिए जाएंगे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी में शामिल हो चुके बिसाहू लाल ने कहा कि जब हम राहुल गांधी से मिले तो उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हारे साथ अन्याय हुआ है।