मध्यप्रदेश राज्य

बड़ी खबर: फ्लोर टेस्ट से पहले दिग्विजय सिंह ने मानी हार, कहीं ये बड़ी बात

डेस्क: मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार का क्या होगा ? बचेगी या जाएगी, इसका फैसला आज शाम 5 बजे तक हो जाएगा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद विधानसभा का विशेष सत्र 20 मार्च को दोपहर दो बजे बुलाया गया है। लेकिन इससे पहले MP कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद कमलनाथ सरकार के पास नंबर नहीं है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि पैसे और सत्ता के दमपर बहुमत वाली सरकार को अल्पमत में लाया गया है।

वहीं शुक्रवार को दोपहर 12 बजे मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ प्रेसवार्ता करेंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि सीएम कमलनाथ सरकार को लेकर फ्लोर टेस्ट से पहले कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। राजनीतिक जानकारों की माने तो वो इस्तीफा भी दे सकते हैं।

दूसरी तरफ बीजेपी नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर बीजेपी विधायक दल की सुरक्षा की मांग की है।

बीती देर रात मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक कांग्रेस के बाकी बचे हुए सभी 16 बागी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिए। इससे पहले प्रजापति कांग्रेस के 6 बा’गी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर चुके हैं। इस प्रकार अब सभी 22 बा’गी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार हो गए हैं।

बता दें कि मध्य प्रदेश में पिछले कई दिनों से जारी सियासी घमा’सान के बीच गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में कई घंटों तक जोरदार बहस हुई। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को मध्य प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष एनपी प्रजापति को निर्देश दिया कि शक्ति परीक्षण के लिए शुक्रवार को सदन का विशेष सत्र बुलाया जाए और यह प्रक्रिया शाम पांच बजे तक पूरी की जाए। कोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा कि अगर बा’गी विधायक फ्लोर टेस्ट के लिए विधानसभा आने चाहते हैं तो कर्नाटक और मध्य प्रदेश के डीजीपी उनकी सुर’क्षा सुनिश्चित कराए। साथ ही, सुप्रीम कोर्ट ने पूरी कार्यवाही की वीडियो रिकॉर्डिंग कराने को भी कहा था।।