बिहार राज्य

‘कोरोना कमांडो’ के लिए बिहार सरकार का बड़ा ऐलान, साथ ही अन्य लोगों के लिए सहायता पैकेज

डेस्क: देशभर में कोरोना वायरस के मामलों लगातार बढ़ोतरी हो रही है। संक्रमित मरीजों की संख्या 429 हो गई है। वहीं इस जानलेवा वायरस के चपेट में आकर अब तक 8 लोग जान गंवा चुके हैं। वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए। दिल्ली, राजस्थान, बिहार, पंजाब, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, नागालैंड, अरुणाचल प्रदेश में कोरोना वायरस की वजह से 31 मार्च तक लॉकडाउन है।

इस बीच बिहार सरकार बड़ा राहत का ऐलान किया है। सरकार ने सभी राशन कार्डधारी परिवारों को एक महीने का राशन मुफ्त देने की घोषणा भी की है। साथ ही वृद्धजन पेंशन, दिव्यांग पेंशन, विधवा पेंशन और वृद्धावस्‍था पेंशन के तहत सभी को तीन माह की पेंशन तत्काल अग्रिम तौर पर ही दी जाएगी। ये राशि सीधे उनके खाते में डाली जाएगी। वहीं कोरोना से लड़ रहे डॉक्टरों और अन्य चिकित्साकर्मियों को एक माह का मूल वेतन अलग से प्रोत्साहन राशि के तौर पर देने का ऐलान किया है।

इसके अलावा लॉकडाउन क्षेत्र के सभी नगर निकाय और प्रखंड मुख्यालय की पंचायत में सभी राशनकार्ड धारी परिवारों को एक हजार रुपये प्रति परिवार दिया जाएगा। ये राशि उनके खाते में डाली जाएगी। इसके साथ ही  सीएम ने घोषणा की कि 1 से 12वीं तक के सभी छात्रों को 31 मार्च तक छात्रवृति दे दी जाएगी।

यह फैसला सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया है। बैठक में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा और मुख्य सचिव दीपक कुमार उपस्थित थे।

बता दें कि रविवार शाम सीएम नीतीश की अध्यक्षता में हाइ लेवल मीटिंग के बाद बिहार सरकार ने 31 मार्च तक बिहार को लॉकडाउन करने का फैसला लिया है। इस लॉक डाउन में पटना सहित बिहार के तमाम जिले शामिल हैं। वैसे अनुमंडल इलाके भी शामिल होंगे, जो भीड़भाड़ वाला इलाका है।

हालांकि अनिवार्य सेवाएं जारी रहेंगी. साथ ही लॉकडाउन से दवा की दुकान, राशन की दुकान, डेयरी, पेट्रोल पंप  बैंक, पोस्ट ऑफिस, एटीएम और मीडिया कार्यालय लॉकडाउन से बाहर रहेंगे।