बिहार राज्य

कोरोना को लेकर बिहार सरकार ने उठाया बड़ा कदम, बनाया गया ‘कोरोना स्पेशल हॉस्पिटल’

डेस्क: कोरोना महामारी को लेकर बिहार सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के तहत पटना के सबसे दूसरे बड़े सरकारी अस्पताल एनएमसीएच (NMCH)  को कोरोना स्पेशल अस्पताल बनाने का निर्णय लिया गया है।

जानकारी के मुताबिक पटना के एनएमसीएच अस्पताल में सिर्फ कोरोना के ही मरीजों का इलाज होगा जबकि एनएमसीएच के बाकी मरीजों को इलाज के लिए बिहार के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल पीएमसीएच(PMCH) में शिफ्ट किया जाएगा।

इस फैसले को मंगलवार की शाम से ही लागू कर दिया जाएगा। यह फैसला मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य के साथ बैठक करने के बाद लिया गया है। ज्ञात हो कि बिहार में अब तक कोरोना के 3 मरीज मिले हैं जबकि एक की मौ’त हो गई है।

बता दें कि रविवार शाम सीएम नीतीश की अध्यक्षता में हाइ लेवल मीटिंग के बाद बिहार सरकार ने 31 मार्च तक बिहार को लॉकडाउन करने का फैसला लिया है। इस लॉक डाउन में पटना सहित बिहार के तमाम जिले शामिल हैं। वैसे अनुमंडल इलाके भी शामिल होंगे, जो भीड़भाड़ वाला इलाका है। हालांकि अनिवार्य सेवाएं जारी रहेंगी. साथ ही लॉकडाउन से दवा की दुकान, राशन की दुकान, डेयरी, पेट्रोल पंप  बैंक, पोस्ट ऑफिस, एटीएम और मीडिया कार्यालय लॉकडाउन से बाहर रहेंगे।

भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। देशभर में अबतक इस वायरस से नौ लोगों की जान जा चुकी है। वहीं संक्रमित लोगों की संख्या 511 हो गई है। सरकारी आंकड़े के मुताबिक कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए 30 राज्यों के 548 जिलों में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है। जबकि दिल्ली समेत चार राज्यों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। रविवार को जनता कर्फ्यू के बाद सोमवार को लॉकडाउन की घोषणा की गई थी।

कोरोना के केरल में 95, लद्दाख में 13, मध्य प्रदेश में 6, महाराष्ट्र में 97, ओडिशा में 2, पुदुचेरी में एक, पंजाब में 23, आंध्र प्रदेश में 7, बिहार में 3, छत्तीसगढ़ में एक, चंडीगढ़ में 6, दिल्ली में 29, गुजरात में 30, हरियाणा में 26, हिमाचल प्रदेश में 2, जम्मू-कश्मीर में 4, कर्नाटक में 33, राजस्थान में 32, तमिलनाडु में 12, तेलंगाना में 33, उत्तर प्रदेश में 33, उत्तराखंड में 5 और पश्चिन बंगाल में 7 केस आए हैं।