देश

जब CM योगी PM मोदी की बात मानते ही नहीं है, तो जनता कैसे मानेगी ?

डेस्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर दूसरी बार मंगलवार को देश को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि जनता कर्फ्यू की सफलता के लिए देश की जनता बधाई के पात्र हैं। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आज रात 12 यानी 24 मार्च (मंगलवार) बजे से देश के हर हिस्से में लॉकडॉउन किया यह लॉकडाउन 21 दिनों का होगा। उन्होंने कहा कि ये एक तरह का कर्फ्यू ही है। यह जनता कर्फ्यू से ज्यादा सख्त होगा। कोरोना महामारी को रोकने के लिए यह लॉकडाउन जरूरी है। इसके साथ ही उन्होंने अपने संबोधन में बार-बार सोशल डिस्टेंसिंग पर भी जोर देते नजर आए।

लेकिन ऐसा लगता है कि पीएम मोदी के सलाह उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री मानने को तैयार नहीं हैं। दरअसल, बुधवार को नवरात्रि के पहले दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या पहुंचे। अयोध्या में भगवान रामलला को टेंट से हटाकर उनके अस्थायी मंदिर में रखा गया है। यह राम जन्मभूमि परिसर में मानस भवन के नजदीक बनाया गया है। राम मंदिर निर्माण पूरा होने तक भगवान रामलला यहीं पर रहेंगे।

सीएम योगी के इस कदम की कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों एवं लोगों ने आलोचना की है। यूपी कांग्रेस चीफ अजय कुमार लल्लू ने कहा, ‘नवरात्रि का पहला दिन है। मां के दरबार में दर्शन के लिए जाने की मेरी भी इच्छा है। हालांकि, मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की बात मानी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यना जी बात नहीं मानते। भीड़ के साथ दर्शन कर रहे हैं तो ऐसे में कैसे यूपी की जनता पीएम की बात माने?’

बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 35 पहुंच चुकी है। भारत में अब तक 562 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इसमें से 43 विदेशी हैं। 40 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। वहीं, 9 लोगों की मौत भी हो चुकी है।