देश

मोदी सरकार की दोहरी नीति, ‘अमीरों को घर पहुंचाने के लिए एयरलिफ्ट और गरीब सब करेगा पैदलशिफ्ट !

डेस्क: पूरे दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है।भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के हिसाब से अब तक इसका संक्रमण 724 लोगों तक फैल चुका है। इनमें से 17 लोगों की मौत हो चुकी है और 66 लोग सही होकर घर जा चुके हैं। गुरुवार के दिन करीब 88 नए मामले सामने आए और शाम ये आंकड़ा 694 तक जा पहुंचा था। भारत में महाराष्‍ट्र और केरल में सबसे ज्‍यादा कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कोरोना को रोकने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन जारी है। दुनिया भर में अब तक 5.26 लाख से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं और करीब 24 हजार लोगों की मौत हो चुकी है।

भारत सरकार इसके प्रसार को रोकने के लिए पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया है। आनन-फानन में बिना तैयारी के लिए इस फैसले के करण बिहार और उत्तर प्रदेश के लाखों लोगों के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है। देश के दूसरे राज्यों और महानगरों में दैनिक मजदूरी करने वाले, रिक्शा-ठेला चलाने वाले, फैक्ट्री में काम करने वाले, निर्माण कार्य लगे मजदूरों का रोजगार खत्म हो चुका है। उनके मालिकों ने उन्हें घर जाने को कह दिया है। बहुत सारे नियोक्ताओं ने तो उनका पैसा भी नहीं दिया है।

इससे संबंधित अनेकों वीडियो और तस्वीरें वायरल हो रही है। लोग बंगाल, राजस्थान, गुजरात, पंजाब, महाराष्ट्र आदि राज्यों से पैदल ही घर के लिए निकल गए हैं। कई जगहों पर पुलिस द्वारा उन्हें परेशान भी किया जा रहा है।

दूसरे देशों में फंसे लोगों को एयरलिफ्ट करके स्वदेश वापस लाकर अपनी पीठ थपथपाने वाली सरकार अपने ही देश में अलग-अलग जगहों पर फंसे लाखों लोगों के लिए कोई पुख्ता व्यवस्था अभीतक नहीं कर पाई है।

सरकार इस रवैये पर युवा समाजिक कार्यकर्ता नित्यानंद झा सोनू अपने फेसबुक वॉल पर लिखते हैं, ‘अमीरों को घर पहुंचाने के लिए एयरलिफ्ट और गरीब सब करेगा पैदलशिफ्ट…. सरकार की इस अत्यंत दरियादिली के लिए अनंत बधाई…. गरीबों तूम डूब मरो चुल्लू भर पानी में, अमीर सब स्विमिंग पूल में नहायेगा….’