विदेश

Big News: काबुल में 25 सिखों का हत्या’रा निकला केरल का यह आतं’की ! 2016 में भागकर जॉइन किया था ISIS

डेस्क: पिछले दिनों काबुल में गुरुद्वारा हर राय साहिब में सिखों पर हुए आ’तंकी हमले को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस हम’ले में शामिल चार आतं’कवादियों में से एक 30 वर्षीय दुकानदार था, जो चार साल पहले केरल के 14 अन्य युवकों के साथ इस्लामिक स्टेट (ISIS) में शामिल होने के लिए भाग गया था। इस्ला’मिक स्टेट ने शुक्रवार को अबू खालिद अल-हिंदी की एक तस्वीर प्रकाशित की, जो आत्मघा’ती हमलावर था, जो चार सदस्यीय टीम का हिस्सा था, जिसने काबुल में सिख तीर्थस्थल पर हमला किया था, जिसमें बुधवार को अफगानिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के 25 सदस्य मारे गए थे। 

इस हमले के बाद से भारतीय सुरक्षा एजेंसियां अबू खालिद-अल-हिन्दी के बारे में जानकारी जुटाने में लगी हुई हैं। शीर्ष सूत्रों ने कहा कि अल-हिंदी ही मोहम्मद साजिद कुथिरुलमाल है, जो केरल के कासरगोड के इलाके में एक दुकानदार था। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) 2016 से इसकी तलाश में है। उसके खिलाफ इंटरपोल का नोटिस भी जारी हो चुका है।

बता दें कि आई’एस के तीन आतं’कवादियों ने 25 मार्च की सुबह 7.45 बजे गुरुद्वारे में लगभग 200 उपासकों पर गोलि’यां चलाईं और ग्रेने’ड दागे थे। 6 घंटे तक चले एनकाउंटर में अफगान सुरक्षा बलों ने तीनों हमलावर को मार गिराया था और 80 बंधकों को मुक्त कर दिया गया था। यदि अबू खालिद अल-हिंदी वास्तव में मुहसिन है, तो यह महत्वपूर्ण होगा क्योंकि यह आईएस दूसरा भारतीय है जो आत्मघा’ती हम’लावर बना है।

काबुल के गुरुद्वारे पर हुए आ’तंकी हमले में मारे गए लोगों के परिवारों ने अफगानिस्तान की सरकार से इस हमले की जांच शुरू करने की मांग की है। इस्लामिक स्टेट खुरासान (आईएसकेपी) ने बुधवार सुबह काबुल के शोरबाजार इलाके में सिख गुरुद्वारे पर हुए आतं’की हमले की जिम्मेदारी ली, जिसमें सिख समुदाय के कम से कम 25 लोग मारे गए थे। जहां एक आत्मघा’ती हमलावर ने प्रवेश द्वार पर खुद को उड़ा लिया था, वहीं लगभग 150 लोग अंदर थे, तब तीन आईएस आतं’कवादियों ने गुरुद्वारे पर हम’ला बोल दिया था।