बिहार राज्य

बड़ी खबर: प्रवासी मजदूरों को बिहार लाने से सीएम नीतीश का इंकार ! कहा- यह सही नहीं होगा…

डेस्क: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मजदूरों के लिए की गई बसों की व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि विशेष बस से लोगों को भेजना एक गलत कदम है। उन्होंने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि इससे बीमारी और फैलेगी जिसकी रोकथाम करना सबके लिए मुश्किल हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि लोगों को कहीं से भी बुलाने में समस्या और बढ़ जाएगी। बिहार सरकार चाहती है कि जो लोग जहां हैं, वहीं उनके खाने और रहने की व्यवस्था कर दी जाए। बसों से लोगों को बुलाने से लॉकडाउन फेल से हो जाएगा। बसों से लोगों भेजना गलत कदम है।

नीतीश कुमार ने बिहार के बाहर फंसे लोगों से अपील की है। उन्होंने कहा है कि अगर बिहार को बचाना है और बिहार से प्यार है तो जो जहां हैं वहीं रहें। सरकार आपके लिए हर जरूरी सामान की व्यवस्था कर रही है।

नीतीश कुमार ने कहा कि किसी को किसी भी तरह की परेशानी नहीं होगी। लॉकडाउन में फंसे लोग हेल्पलाइन पर फोन के जरिए अपनी लोकेशन बताएं। उनकी मदद की जाएगी। इसके अलावा हेल्पलाइन नंबर पर फोन ना लगे तो मुख्यमंत्री ऑफिस में फोन करें। हर तरह की सहायाता की जाएगी।

नीतीश सरकार ने दूसरे राज्‍यों में फंसे बिहारियों के रहने-खाने की व्‍यवस्‍था के लिए 100 करोड़ रुपये जारी किए हैं। किसी भी जिले के अधिकारी का नॉन-प्रॉफिट संस्‍थाएं फंसे लोगों की मदद के लिए फंड्स हेतु बिहार सरकार से संपर्क कर सकती है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से मंगलवार को देशव्‍यापी लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही प्रवासी मजदूरों के पलायन की खबरें आने लगी थीं। शनिवार को केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उन्‍होंने अधिकारियों को ऐसे लोगों की मदद करने के निर्देश दिए हैं। उत्‍तर प्रदेश और दिल्‍ली की सरकारें इन प्रवासियों के लिए विशेष बसें चला रही हैं। यूपी सीएम योगी आदित्‍यनाथ के कार्यालयन शनिवार को जानकारी दी कि 1000 बसों का इंतजाम किया गया है ताकि लोग सकुशन अपने घर जा सकें। दिल्‍ली के डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि उनकी सरकार 100 बसें चलाकर इनकी मदद करेगी। बिहार के मुख्यमंत्री का बयान इन्हीं खबरों के बाद आया है।

बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण में अबतक नौ मामले मिले हैं। इनमें से 6 मरीज ऐसे हैं जिनकी कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। मुंगेर के रहने वाले एक संक्रमित व्‍यक्ति की मौत रविवार को पटना एम्‍स में हुई। इससे पहले वह पटना के एक निजी अस्पताल में भर्ती था। इस अस्पताल के वार्ड बॉय और एक व्यक्ति को भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। मृतक के रिश्तेदारों में एक महिला सहित दो लोगों को भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।