बिहार राज्य

ओवैसी ने साधा CM नीतीश कुमार पर निशाना, पूछा- इन्हें क्यों छोड़ दिया?

डेस्क: भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था। इस लॉकडाउन के चलते दूसरे राज्यों में काम कर रहे बिहार के मजदूरों के सामने संकट खड़ा हो गया है। इन मजदूरों के पास काम नहीं है। ट्रेन और बस समेत सभी परिवहन सेवाएं बंद होने के बाद अब घर वापसी का भी कोई विकल्प नहीं बचा है, वहीं बंदी की वजह से खाने-पीने के लिए वे दूसरों पर निर्भर हैं। वो दाने-दाने को तरस रहे हैं। ऐसे में कई लोग पैदल ही गंतव्य की ओर निकल चुके हैं।

इस विपदा की घड़ी में विभिन्न पार्टियों के कार्यकर्ता जरूरतमंदों को मदद पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं।AIMIM पार्टी के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी लगातार अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के लोगों को मदद मुहैया कराने से जुड़े वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं।

इसी क्रम में एक वीडियो शेयर करते हुए ओवैसी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए लिखा है ‘AIMIM पार्टी के कार्यकर्ता हमारे भाइयों जो बिहार के किशनगंज के रहने वाले हैं और वर्तमान में हफीजपेट में रहते हैं, को पका हुआ खाना बांट रहे हैं। लॉकडाउन की वजह से वह हैदराबाद में फंस गए हैं। नीतीश कुमार, यह लोग आपके राज्य से हैं, आपने उन्हें क्यों छोड़ दिया।’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, यह लोग अपने घरों से दूर रहकर काम करते हैं और बिहार में रह रहे अपने परिवारों की मदद करते हैं, लेकिन आज उनके राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका साथ छोड़ दिया है। सीमांचल के लोगों के साथ आपके राज्य और दूसरे राज्यों में सौतेला व्यवहार क्यों हो रहा है।’

ज्ञात हो कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि बसों से लोगों को उनके राज्यों तक पहुंचाने से लॉकडाउन का मकसद ही खत्म हो रहा है। बेहतर होगा कि फंसे हुए लोगों को वहीं पर खाना और अन्य सुविधाएं मुहैया कराई जाएं। जिसके बाद बिहार सरकार ने अधिकारियों को आदेश दिए थे कि प्रवासी लोगों राज्य में दाखिल होने पर उन्हें बॉर्डर पर ही 14 दिनों तक सरकारी कैंपों में रखा जाए।

बता दें कि भारत में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1024 हो गई है। बीते रविवार इसके 106 नए मामले सामने आए। देश में अभी तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 96 मरीज ठीक भी हो चुके हैं।