देश

अभी-अभी: एक ही राज्य में 110 नए कोरोना मरीज, सभी के सभी तबलीगी जमात से जुड़े !

डेस्क: कोरोना वायरस का कहर दुनिया के साथ-साथ भारत में भी बढ़ता जा रहा है। देश में इस खतर’नाक वायरस के अब तक कुल 1700 से ज्यादा मामले आ चुके हैं। वहीं इस बीमारी से अबतक 133 लोग ठीक हो गए हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और एक मरीज को दूसरी जगह भेजा गया है। कुल 49 विदेशी भी इस बीमारी से पीड़ित हैं। अब तक 50 से ज्यादा लोगों कोरोना से जा’न गंवाई है।

इस बीच तमिलनाडु से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहां आज 110 नए मामला सामने आया है। जिसके बाद राज्य में मरीजों की संख्या 234 हो गई ह। बताया जा रहा है कि ये सभी दिल्ली के तबलीगी जमात के मरकज से जुड़े हैं।

तमिलनाडु स्वास्थ्य सचिव बाला राजेश ने बुधवार को कहा, ‘मैं हर उस व्यक्ति को धन्यवाद देना चाहती हूं जो दिल्ली में मरकज कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद हमारी अपील पर स्वेच्छा से हमारी ट्रीटमेंट फैसिलिटी में आए। कुल 1103 लोग स्वेच्छा से सामने आए जिनमें से 658 का टेस्ट किया गया है।’

उन्होंने आगे कहा बीते 24 घंटों से पूरी सरकार मशीनरी ओवरटाइम काम कर रही है। हम उनको आइसोलेशन वार्डों में ले गए हैं। उन लोगों में से 658 लोगों के सैंपल लिए गए थे, जिनमें से 110 सैंपल पॉजिटिव पाए गए।

इससे पहले मरकज से लौटे 93 लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने का मामला सामने आया था। सभी का सैंपल पॉजिटिव निकला है। इसमें से 45 तमिलनाडु, 9 अंडमान और 24 केस दिल्ली के हैं। इसके अलावा आंध्र प्रदेश से 4 और केस सामने आए, जिनकी ट्रैवल हिस्ट्री मरकज की रही है। विशाखापट्टनम से भी 21 केस सामने आए हैं।

वहीं, दूसरी तरफ नागपुर नगर निगम के आयुक्त तुकाराम मुंडे ने बताया कि दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शामिल हुए नागपुर के 54 लोगों की पहचान की गई है और उन्हें पृथक कर दिया गया है। दूसरी तरफ डीजीपी शिवानंद झा के मुताबिक गुजरात के 72 लोग तबलीगी जमात में शामिल हुए थे। जिसमें से 34 लोग अहमदाबाद से, 20 लोग भावनगर से और 12 लोग मेहसाना से थे।भावनगर का रहने वाला शख्स जो तबलीगी जमात में शामिल हुआ था उसकी मौ’त हो गई है। जबकि अन्य 71 लोग क्वेरेंटाइन में रखे गए हैं।

गौरतलब है कि दो दिन पहले ही खुलासा हुआ था कि दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में 13-15 मार्च के बीच हुई धार्मिक सभा में कई लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हो गए थे। अब तक दिल्ली, तेलंगाना, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश से मरकज में शामिल हुए कई लोगों को पकड़ा गया है। मरकज से निकल कर सैकड़ों की संख्या में लोग देश के 19 राज्यों में पहुंच चुके हैं और इन राज्यों में संक्रमण फैलने का खत’रा काफी बढ़ गया है। प्रशासन के लिए इनका पता लगाना सबसे बड़ी चुनौती बनी हुई है।