बिहार राज्य

जज्बे को सलाम ! सरकार ने नहीं दिया PPE किट तो महिला डाॅक्टर ने कार के कवर से ही बना लिया किट

डेस्क: कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। भारत में COVID-19 से अबतक 41 लोगों की मौ’त हो चुकी है और संक्रमितों की संख्या 1834 पहुंच गई है। बीते 24 घंटे में कोरोना के 437 नए मामले सामने आए हैं। वहीं एक अच्छी खबर यह है कि इसके संक्रमण से 144 लोग ठीक हो चुके हैं।

बिहार में भी यह वायरस तेजी से पैर पसार रहा है। प्रदेश अबतक 24 मरीज पॉजिटिव मिले हैं। इन सब के बीच बिहार के एक महिला डॉक्टर ने अस्पताल प्रबंधन द्वारा PPE किट नहीं मिलने पर एक अनोखा तरीका ईजाद किया है।

दैनिक भस्कार की एक रिपोर्ट के मुताबिक काेराेना संक्रमण से बचाव काे लेकर भागलपुर मेडिकल काॅलेज अस्पताल प्रबंधन से बार-बार प्राेटेक्शन किट की मांग करने के बाद भी जब व्यवस्था नहीं हुई ताे एक डाॅक्टर ने कार के कवर से ही खुद अाैर अपने पति के लिए किट तैयार करा लिया। स्त्री एवं प्रसव राेग विभाग में कार्यरत डाॅ. गीता रानी ने बुधवार काे कार के कवर से तैयार किट पहनकर ही इमरजेंसी ड्यूटी कीं। इस दाैरान उन्हाेंने एक महिला की सर्जरी भी की।

उन्हाेंने बताया कि बरारी के एक साैकत नाम के टेलर मास्टर काे हमने माेबाइल में यू-ट्यूब से वीडियाे दिखाकर अपने साइज का किट तैयार करा लिया। यह किट पूरी तरह काेराेना से बचाव में सेफ है, इसे बार-बार यूज वाॅश करने के बाद किया जा सकता है।

उन्हाेंने भारत सरकार और बिहार के सीएम नीतीश कुमार काे भी इमेल भेज कर कहा है कि प्राेटेक्शन किट के साथ ही सभी लाेग अगर अपने-अपने घराें से एक-एक छाता लेकर बाहर निकलें ताे तीन फीट की दूरी स्वत: हाे जाएगी।

इससे बेहतर साेशल डिस्टेंसिंग का उदाहरण पेश हाे ही नहीं सकता है। एक छाता का डायमीटर तीन फीट हाेता है, एेसे में अगर काेई छाता लेकर नहीं भी अाए ताे उसके सामने तेजी से उसे घुमाने से सामने वाला पीछे हट जाएगा और साेशल डिस्टेंसिंग हाे जाएगा। वहीं गायनी में तैनात डाॅ. राेमा यादव ने भी लाेगाें से अपील की है कि वे लाेग साेशल डिस्टेंसिंग का पालन छाता लेकर कर सकते हैं।