Breaking News देश

जो PM आंगन, दलान, खेत-खलिहान भूलकर बालकनी की बात करे, समझ जाइये वह कितना बड़ा ठग है !

डेस्क: डेस्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश के नाम अपने संबोधन में 5 अप्रैल को देशवासियों से 9 मिनट मांगे हैं। उन्होंने रविवार रात नौ बजे, नौ मिनट तक घर की बत्तियां बुझाकर कैंडल, दीपक या मोबाइल फ्लैशलाइट जलाने की अपील की है। पीएम मोदी के इस अपील पर लोगों की प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई है। कांग्रेस समेत विपक्षी दल के तमाम नेता खुलकर इसकी आलोचना कर रहे हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने पीएम मोदी के संबोधन के बाद अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘अभी प्रधान शोमैन की बातें सुनीं। लोगों के दर्द, उनके बोध, उनकी वित्तीय चिंताओं को दूर करने के बारे में कुछ नहीं कहा गया। भविष्य को लेकर कोई दृष्टि नहीं, या उन मुद्दों पर कोई बात नहीं, जिनके बारे में लॉकडाउन के बाद के माहौल में बात करने का उनका इरादा हो। बस, भारत के फोटो-ऑप प्रधानमंत्री द्वारा तैयार किया गया फील-गुड मूमेंट था यह।’

वहीं बिहार, मधेपुरा के पूर्व सांसद और जाप सुप्रीमो पप्पू यादव ने प्रधानमंत्री पर हम’ला बोला है, उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘जो प्रधानमंत्री आंगन, दलान, खेत-खलिहान भूल बालकनी की बात करे! समझ जाइये वह कितना बड़ा ठग है!’

इससे पहले एक अन्य ट्वीट में पप्पू यादव ने लिखा,’पीएम साहब आप फर्जी गरीब हैं। आपको नहीं पता है पूरा देश में गरीबों को आटा नहीं मिल रहा है। आपको मोमबत्ती जलाने की पड़ी है।’

बता दें कि आज सुबह 9 बजे प्रधानमंत्री ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि 5 अप्रैल को रात नौ बजे घर की लाइट बंद करके, घर के दरवाजे पर मोमबत्ती, दिया या फ्लैश लाइट जलाएं। पीएम मोदी ने कहा कि इस रविवार को हमें संदेश देना है कि हम सभी एक हैं। पीएम ने अपील करते हुए कहा कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन ना करें। घर के बाहर, सड़क और या गली में इकठ्ठा न हों।

वीडियो संदेश के शुरुआत में पीएम मोदी ने कहा कि  मेरे प्यारे देशवासियों, कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ देशव्यापी लॉकडाउन को आज नौ दिन हो रहे हैं। इस दौरान आप सभी ने जिस प्रकार अनुशासन और सेवा भाव का परिचय दिया उसके लिए धन्यवाद। शासन-प्रशासन और जनता जनार्दन ने इस स्थिति को अच्छे तरीके से संभालने का काम किया है।