देश विदेश

जानिए- जब पाकिस्तानी एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने एयर इंडिया से कहा- हमें आप पर गर्व है

डेस्क: कोरोना वायरस के वजह से पूरा विश्व महामारी से जूझ रहा है। इस वैश्विक महामारी के बीच एयर इंडिया की अभियानों की काफी सराहना हो रही है। एयर इंडिया एयरलाइन्स ने कई देशों से फंसे हुए लोगों की वतन वापसी कराने का कार्य किया। जिसके लिए उसे दुनिया भर से तारीफ मिल रही है। एयर इंडिया की तारीफ करने वाले देशों में अब पाकिस्तान का नाम भी शामिल हो गया है।

पाकिस्तान के एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने न सिर्फ एयर इंडिया की फ्लाइट का अपने एयरस्पेस में स्वागत किया बल्कि एयरलाइन्स की प्रशंसा भी की है। दरअसल लॉकडाउन की वजह से भारत में फंसे यूरोपीय नागरिकों को लेकर एयर इंडिया के विमान फ्रैंकफर्ट जा रहे थे। इसमें कोरोना से जुड़ी राहत सामग्री भी थी। एयर इंडिया के एक सीनियर कैप्टन ने शनिवार कोन्यूज एजेंसी को पूरे वाकये के बारे में बताया, ‘जैसे ही हम पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र में घुसे, वहां के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने ‘अस्सलाम अलैकुम’ से हमारा स्वागत किया। कंट्रोलर ने आगे कहा कि कराची कंट्रोल फ्रैंकफर्ट में राहत सामग्री पहुंचाने जा रहे एयर इंडिया के विमानों क स्वागत करता है।’

इस दौरान पाकिस्तान के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने एयर इंडिया के पायलट से पूछा, ‘कन्फर्म करिए क्या आप राहत सामग्री लेकर फ्रैंकफर्ट जा रहे हैं? भारतीय पायलट की तरफ से ‘हां’ में जवाब आया है। इसके बाद पाकिस्तानी एटीसी ने भारतीय विमान को आगे के जरूरी निर्देश दिए। अंत में पाकिस्तानी एटीसी ने एयर इंडिया की तारीफ करते हुए कहा, ‘हमें गर्व है कि ऐसी महामारी की हालत में भी आपके विमान उड़ान भर रहे हैं। गुड लक’। इसके बाद तारीफ करने के लिए भारतीय पायलट ने पाकिस्तानी एटीसी शुक्रिया कहा। कैप्टन ने कहा- यह मेरे और पूरे एयर इंडिया क्रू के लिए बहुत गर्व का पल था, जब हमने पाकिस्तान एटीसी से इस अभियान की तारीफ सुनी।

इसके अलावा, जब विशेष उड़ानों की कमान संभालने वाले एयर इंडिया के कप्तान ने पाकिस्तान एटीसी से पूछा कि उन्हें ईरान के हवाई क्षेत्र के लिए अगला राडार नहीं मिल रहा है, तो पाकिस्तान ने तेहरान के एटीसी को एयर इंडिया के 2 स्पेशल विमानों की मौजूदा लोकेशन की जानकारी दी। एयर इंडिया के कप्तान ने बताया ईरान के हवाई क्षेत्र से बाहर जाने से पहले वहां के एटीसी ने भी ‘ऑल द बेस्ट’ कहा।

बता दें कि एयर इंडियाके बोइंग-777 और 787 के कई चालक दल के सदस्यों को मुंबई और दिल्ली से यूरोप के कई देशोंऔर कनाडा के नागरिकों को उनके देश पहुंचाने के लिए तैनात किया गया था।