बिहार राज्य

कोरोना अपडेट: सीएम नीतीश कुमार ने किया ऐसा काम जो अबतक देश में किसी ने नहीं किया है, बड़ी योजना की शुरुआत हुई

डेस्क: भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था। इस लॉकडाउन के चलते दूसरे राज्यों में काम कर रहे बिहार के कामहारों के सामने संकट खड़ा हो गया है। इनके पास काम नहीं है। ट्रेन और बस समेत सभी परिवहन सेवाएं बंद होने के बाद अब घर वापसी का भी कोई विकल्प नहीं बचा है, वहीं बंदी की वजह से खाने-पीने के लिए वे दूसरों पर निर्भर हैं।

इनके परेशानी को कम करने के लिए बिहार सरकार ने लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों में फंसे बिहार के लोगों को प्रति व्यक्ति एक हजार रुपये उनके बैंक खाते में डालने का ऐलान किया था।

इसके तहत सोमवार पहले दिन अन्य राज्यों में फंसे एक लाख तीन हजार 579 लोगों के खाते में हजार रुपये प्रति व्यक्ति की दर से आर्थिक मदद भेजी गई। इस तरह राज्य के बाहर लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों एवं जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए सहायता राशि पहुंचाने वाला देश का पहला राज्य बना बिहार।

नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री राहत कोष से मुख्यमंत्री विशेष सहायता अंतर्गत लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों में फंसे बिहार के लोगों को प्रति व्यक्ति एक हजार रुपये उनके बैंक खाते में भेजने की योजना की शुरुआत माउस क्लिक कर किया। पहले दिन 10 करोड़ 35 लाख 79 हजार रुपये भेजे गए। इसके लिए अब तक 2 लाख 84 हजार 674 आवेदन प्राप्त हुए हैं।

अभी सारण के 7281, मुजफ्फरपुर के 6821, मधुबनी के 6792, पूर्वी चम्पारण के 6569, सीतामढ़ी के 6348, सीवान के 5897, दरभंगा के 5026, समस्तीपुर के 4264, गोपालगंज के 4240, वैशाली के 4145, पश्चिम चम्पारण के 3340, जमुई के 2523, भागलपुर के 2439, बांका के 2399, पटना के 2372, बेगूसराय के 2252, कटिहार के 2209, सुपौल के 2175, रोहतास के 2166, औरंगाबाद के 2158, गया के 2052, किानगंज के 1968, अररिया के 1793, पूर्णिया के 1747, भोजपुर के 1709, नालंदा के 1686 लोगों को पैसे भेजे गए हैं।

मुख्यमंत्री ने इन आवेदनों की जांच के बाद अन्य लोगों के खाते में जल्द राशि भेजने का निर्देश अधिकारियों को दिया है। योजना के शुभारंभ के बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह सहायता राशि सबको मिले, यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के बाहर दिल्ली और अन्य शहरों में लोगों की मदद के लिए कैम्प चलाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 10 स्थानों पर कैम्प बनाकर लोगों को भोजन एवं फूड पॉकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं।