National News करियर & जॉब

अभी से अपना CV रखें तैयार.. इस सेक्टर की टॉप-3 कंपनियां देंगी फ्रेशर्स को बम्पर नौकरियां! जानिये पूरा…

कोरोना वायरस के फैलाव के बाद युवाओं को रोजगार मिलने की तकलीफ और बढ़ गई है। देश भर में कोरोना की तीसरी लहर के आने की आशंका जताई जा रही है। अब वापिस से कोरोना संक्रमितों के बढ़ते मामलों के बीच रोजगार की खोज कर रहे के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। दरअसल, इस साल IT सेक्टर में हायरिंग की संभावना काफ़ी तेज़ है। इंफोसिस से लेकर विप्रो जैसी बड़ी आईटी कंपनियां फ्रेशर्स को नौकरी देने की तैयारी में है। बता दें दिसंबर 2021 की अंतिम तिमाही के नतीजे घोषित करते हुए आईटी कंपनी इंफोसिस और विप्रो ने हायरिंग को लेकर घोषणा की थी। वहीं इन दोनों दोनों कंपनियों ने तीन महीने की अवधि के दौरान कुल लगभग 26,000 लोगों को हायर किया है।

विप्रो में मिलेगा अवसर

विप्रो ने साल 2022 में लगभग 30,000 फ्रेशर्स को नियुक्त करने की योजना का जिक्र किया था। ऐसा इसीलिए भी क्योंकि कम्पनी का काम छोड़कर जाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 22% हो गई है। कंपनी पिछले वित्त वर्ष की तुलना में वित्त वर्ष 22 में 70% अधिक फ्रेशर्स को नियुक्त करेगी। पिछले एक साल में भारतीय आईटी कंपनियां एट्रिशन (काम छोड़कर जाने वाले लोग) की लगातार वृद्धि हो रही है। विप्रो ने कहा कि नौकरी छोड़ने से कर्मचारियों की लागत अधिक होती है और मार्जिन कम होता है। यह हाल के महीनों में भारत में सभी टेक्निकल कंपनियों के लिए बड़ी समस्या रही है। विप्रो के लिए कंपनी छोड़ने वाले कर्मचारियों की दर दिसंबर तिमाही में सबसे ज्यादा रही है। बता दें कि विप्रो ने तिमाही के दौरान 10,306 कर्मचारियों की संख्या में वृद्धि दर्ज की, जिससे इसकी कुल संख्या 231,671 हो गई। इस संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में 41,363 की बढ़त देखी गई है।

TCS की हायरिंग

हाल ही मेंटाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS), की कर्मचारी संख्या आधा मिलियन यानी 5 लाख को पार कर चुकी है। TCS को टेक्नोलॉजी टैलेंट की तलाश है। कम्पनी द्वारा पहले ही कहा गया था की वह साल 2022 के मार्च तक 34,000 अतिरिक्त फ्रेशर्स को नियुक्त करेगी। पर बता दें TCS ने दिसंबर तक उस लक्ष्य को पूरा कर लिया है। राहत की बात है कि कम्पनी के प्रबंधन ने कहा कि आने वाले महीनों में और नियुक्तियां की जाएंगी। दिसंबर 2021 को समाप्त तिमाही में टीसीएस ने 15.3% की एट्रिशन दर की सूचना दी है, जो कि विप्रो (22.7%) और इंफोसिस (25%) की तुलना में सबसे कम है। हालांकि, इसने पिछले तीन में 28,000 नए कर्मचारियों को काम पर रखा है।

इंफोसिस में भी हायरिंग

साल 2021 के दिसंबर की समाप्त तिमाही के लिए अपनी आय की घोषणा करते हुए, देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस, ने बुधवार को कहा कि कंपनी अपने वित्त वर्ष 2012 के लिए 55,000 से अधिक फ्रेशर्स को नियुक्त करने की योजना पर विचार कर रही है। कंपनी के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर नीलांजन रॉय ने कहा, “हम टैलेंट की तलाश में हैं और हमने अपने ग्लोबल हायरिंग प्रोग्राम के तहत वित्त वर्ष 2022 में 55,000 से अधिक भर्तियां करने का लक्ष्य रखा है।” बता दें दिसंबर 2021 तक इंफोसिस के कुल कर्मचारियों की संख्या 2,92,067 थी, जबकि पिछली तिमाही में यह 2,79,617 और दिसंबर 2020 तक 2,49,312 थी।