देश राजनीती

Maharashtra Political Crisis: आखिरकार हार गए उद्धव ठाकरे, मुख्यमंत्री पद से देंगे इस्तीफा !

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार को लेकर सस्पेंस लगातार बरकरार है। शिवसेना नेता संजय राउत ने राज्य में मौजूदा राजनीतिक स्थिति के बीच महाराष्ट्र विधानसभा भंग करने के संकेत दिए हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक संकट विधानसभा भंग करने की ओर बढ़ रहा है।’

Maharashtra Political Crisis: मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं उद्धव ठाकरे

वहीं, कई मीडिया रिपोर्ट्स के दावा किया जा रहा है कि महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं। कुछ देर में होने वाली कैबिनेट मीटिंग के बाद उद्धव ठाकरे के इस्तीफे की चर्चा है। इस्तीफे से पहले उद्धव ठाकरे अपनी शिवसेना पार्टी के सभी सांसदों और विधायकों से बात भी करेंगे।

यह भी पढ़ें महाराष्ट्र की पुलिस ने नवादा से 3 साइबर अपराधियों को  किया गिरफ्तार

Maharashtra Political Crisis: नाथ शिंदे के साथ 46 विधायक का दावा

बता दें कि शिवसेना के मंत्री एकनाथ शिंदे पार्टी विधायकों के साथ असम पहुंच गए हैं। वह यहां के होटल रेडिशन ब्लू में ठहरे हुए हैं। इसके बाद उद्धव सरकार पर संकट गहरा गया है। एकनाथ शिंदे का दावा है कि उनके पास छह निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी है, और इस तरह कुल मिलाकर 46 विधायक उनके साथ हैं।

गुवाहाटी एयरपोर्ट पर एकनाथ शिंदे ने कहा कि वह बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व ​​​​को आगे ले जाएंगे। गौरतलब है कि उन्होंने सूरत एयरपोर्ट पर भी कहा था कि उन्होंने बालासाहेब ठाकरे का हिंदुत्व नहीं छोड़ा है। उन्होंने कहा था,”मैं चाहता हूं कि भाजपा के साथ मिलकर उद्धव ठाकरे सरकार बनाएं।”

दलबदल कानून का असर होगा ?

दलबदल कानून के मुताबिक अगर किसी पार्टी के कुल विधायकों में से दो-तिहाई के कम विधायक ‘विलय’ करते हैं तो उन्हें अयोग्य करार दिया जा सकता है। शिवसेना के पास इस समय विधानसभा में 55 विधायक हैं। ऐसे में दलबदल कानून से बचने के लिए बागी गुट को कम के कम 37 विधायकों की जरूरत होगी। जबकि शिंदे अपने साथ 40 विधायकों के होने का दावा कर रहे हैं।

बता दें कि मंगलवार को देर शाम शिवसेना के दो नेता सूरत में शिंदे से मिले थे और उन्हें मनाने की कोशिश की गई थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दोनों नेताओं के साथ मुलाकात के बाद एकनाथ शिंदे ने मिलिंद नारवेकर के फोन से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात की। ये बातचीत करीब 10 मिनट तक हुई थी। इस दौरान उद्धव की पत्नि रश्मि ठाकरे से भी शिंदे की बातचीत हुई थी।