Bihar Breaking News National News आभासी दुनिया करियर & जॉब

वैज्ञानिकों ने कर दिया कमाल! अब एक ही पौधे में उगेंगे आलू-टमाटर, मिर्च-बैगन, कद्दू-खीरा और..

डेस्क: किचन कार्डेनिंग का शौक बढ़ता जा रहा है. लोग ऑर्गेनिक तरीके से अपने बगीचों, छतों पर ही सब्जी उगाने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसे में वाराणसी में स्थित भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान (आईआईवीआर) के वैज्ञानिकों ने नई तकनीकी ईजाद की है.

नवभारत टाइम्स से बात करते हुए वैज्ञानिक डॉ. अनंत कुमार ने कहा, ग्राफ्टिंग तकनीकी से तैयार किए पौधे किचन गार्डन या फिर गमले के लिए सही हैं. हर एक पौमैटो से 2 किग्रा टमाटर और 600 ग्राम आलू तैयार किया जा सकता है. मिट्टी के निचले हिस्से में आलू और ऊपर टमाट पैदा होगा.

दूसरी तरफ ब्रिमेटो के एक पौधे से लगभग दो किग्रा टमाटर और ढाई किग्रा तक बैगन उगाया जा सकता है. इसी के साथ एक ही पौधे में टमाटर के साथ मिर्च. लौकी, तरोई में खीरा और करेला उगाने में सफलता हासिल की है.

आलू के पौधे के मिट्टी के ऊपर कम से कम 6 इंचा लंबा होने पर उसपर टमाटर के पौधे की ग्राफ्टिंग की जाती है. दोनों पौधों के तने की मोटाई बराबर होनी चाहिए. 20 दिन  बाद दोनों का जुड़ाव हो जाने पर उसे खेत में छोड़ दिया जाए. रोपाई के दो महीने बाद टमाटर की तोड़ाई शुरू हो जाएगी. इसके बाद आलू की खुदाई होगी.

बैंगन को पौधे के 25 दिन और टमाटर के 22 दिन हो जाने के बाद इसमें ग्राफ्टिंग होती है. इस तरह एक पौधे से दो पौदावार हो सकती है.

Source: india times Hindi

Desk
Social Activist
https://khabarilaal.com