Bihar MLA Affidavit Scam
बिहार राजनीती राज्य

Bihar MLA Affidavit: महाराष्ट्र सियासी संकट के बीच बिहार के 40 विधायकों का ‘खेला’ उजागर, होगी बड़ी कार्रवाई !

Bihar MLA Affidavit: महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट (Maharashtra Political Crisis) के बीच बिहार से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। राज्य में सत्ता और विपक्ष के विधायकों ने बड़ा खेला कर दिया है। महाराष्ट्र में विधायक छिप कर राज्य से बाहर निकल गए तो बिहार के कुल 40 विधायक ऐसे हैं, जिनका खेला उजागर हो गया है। चुनाव आयोग इन पर कार्रवाई कर सकती है।

पूरी जानकारी केंद्रीय चुनाव आयोग तक पहुंची

दरअसल, इन विधायकों ने अपने हलफनामे में संपत्ति की जानकारी छिपा ली। लेकिन आयकर विभाग की जांच में इसका खुलासा हो गया। बिहार के कुल 243 में से 40 एमएलए ऐसे हैं जिन्होंने 2020 के विधानसभा चुनाव के दौरान अपने एफिडेविट में गलत जानकारी दी। इनमें से 10 विधायक तो उस लिस्ट में हैं जिनके एफिडेविट में दिखाई गई संपत्ति 10-20 करोड़ रुपयों से भी ज्यादा है। अब आयकर विभाग ने इसकी पूरी जानकारी केंद्रीय चुनाव आयोग को सौंप दी है।

अनंत सिंह

Bihar MLA Affidavit: लिस्ट में सभी दल के नेता

इन 40 विधायकों में सत्ता पर काबिज भाजपा, जदयू और हमा के हैं। वहीं विपक्ष भी इनसे अलग नहीं हैं। यहां भी राजद, कांग्रेस सहित अन्य दलों के विधायकों ने चुनाव के दौरान संपत्ति के बारे में गलत जानकारी दी। इसके अलावा चुनाव हारने दो कैंडिडेट ने भी सही जानकारी नहीं दी थी। उनमें सबसे बड़ा नाम बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी और मोकामा से विधायक अनंत सिंह का है। जहां अनंत सिंह की संपत्ति की जांच में हलफनामे से 20 करोड़ से अधिक की संपत्ति होने की जानकारी मिली है। वहीं मांझी के हलफनामे में भी गड़बड़ी पाई गई है।

Also Read जल्द गिरेगी उद्धव सरकार ? सियासी भूचाल के बीच संजय राउत का ट्वीट, कहा…

इस लिस्ट में मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के आलावा बाहुबली रीत लाल यादव, सुरेंद्र यादव ( RJD ) का नाम भी शामिल है। एक विधायक ने तो पटना में मौजूद अपनी संपत्ति की कीमत लाखों में बताई है जबकि असल आकलन कहीं ज्यादा का है।

सदस्यता जाने का खतरा

नियमों के हिसाब से पहले तो आयकर विभाग इन विधायकों और नेताओं पर तगड़ा जुर्माना ठोक सकता है। इसके बाद अगर चुनाव आयोग ने कड़ा फैसला ले लिया तो इनकी सदस्यता जाने का भी खतरा है। हालांक ये फैसला चुनाव आयोग को ही लेना है कि किस तरह का कार्रवाई हो।