Land For Job Scam
politics देश बिहार राजनीती राज्य

Land For Job Scam: कौन है हृदयानंद चौधरी ? जिसके गिरफ्तारी से लालू परिवार की मुश्किलें बढ़ गई है !

Land For Job Scam: राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव एवं उनके परिवार के बेहद ही करीबी भोला यादव को बुधवार की सुबह सीबीआइ ने नयी दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया। 2004-09 के दौरान लालू प्रसाद के रेल मंत्रित्व काल में भोला यादव के बतौर ओएसडी रेलवे में जमीन के बदले नियुक्ति मामले में दर्ज केस में उनकी गिरफ्तारी हुई है। सीबीआइ ने भोला यादव के साथ पटना के राजेंद्र नगर रेलवे स्टेशन पर तैनात गोपालगंज जिले के निवासी और रेल कर्मी हृदयानंद चौधरी को भी गिरफ्तार किया है।

Land For Job Scam

यह भी पढ़ेंIRCTC Ticket Booking: रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर: हर बार मिलेगा कन्फर्म टिकट, बस करना होगा यह छोटा सा काम !

Land For Job Scamकौन है हृदयानंद चौधरी ?

बता दें कि आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव की बेटी हेमा यादव को हृदयानंद चौधरी जमीन गिफ्ट की थी। हेमा यादव को गिफ्ट में दी गई प्रापर्टी कहां की है, कितने की है, कैसे हृदयानंद के पास इतनी प्रापर्टी आई, इन तमाम बिंदुओं पर सीबीआई ने गहनता से छानबीन कर रही है। हृदयानंद चौधरी ने रेलवे में नौकरी के नाम पर लालू यादव की बेटी को जमीन दी थी। इस आरोप की जांच करने सीबीआई की टीम मई में उनके घर पहुंची थी। बड़े भाई देवेंद्र चौधरी ने बताया कि हृदयानंद ने हेमा यादव को यह जमीन वर्ष 2017 में गिफ्ट की थी। देवेंद्र के मुताबिक हेमा को हृदयानंद बहन मानते हैं, इसलिए उन्हें जमीन गिफ्ट की किया था।

हेमा यादव भी आ सकती हैं सीबीआई की रडार पर

सीबीआई की टीमों ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से जुड़े अलग-अलग कुल 17 स्‍थानों पर छापेमारी की थी। हृदयानंद चौधरी पर हुई कार्रवाई के बाद लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। क्योंकि हृदयानंद चौधरी ने हेमा यादव को गिफ्ट में जमीन दी थी और ऐसे में कानूनविदों की माने तो हेमा यादव भी सीबीआई की रडार पर आ सकती हैं।

 

दो अगस्त तक सीबीआई के रिमांड पर

गिरफ्तारी के बाद भोला यादव और हृदयानंद चौधरी को सीबीआइ ने नयी दिल्ली कोर्ट में पेश किया, जहां सीबीआई ने इनकी 10 दिनों की रिमांड मांगी थी, लेकिन कोर्ट ने दोनों को दो अगस्त तक के लिए सीबीआई की हिरासत में भेज दिया है। IRCTC में गड़बड़ी, रेलवे के विभिन्न जोन में बिना रिक्तियां जारी किये ही नौकरी दिये जाने के मामले में सीबीआइ ने भोला यादव को पूछताछ के लिए बुलाया था। जहां उन्हें पहले हिरासत में लिया गया और बाद में आधिकारिक तौर पर गिरफ्तार कर लिया गया।

भोला यादव के पास है सारे राज

मामले पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रेमरंजन पटेल ने कहा कि भोला यादव राजद अध्यक्ष के ओएसडी के पद पर भी थे। राजद अध्यक्ष जब रेल मंत्री के पद पर थे उस समय उनके सारे काम की जानकारी उन्हें (पूर्व विधायक) होती थी। उन्होंने कहा कि सीबीआई को कुछ जानकारी मिली होगी तो गिरफ्तारी हुई है।