National बिहार

बिहार के इन जिलों में लगेगा 800 एकड़ में उद्योग, 250 एकड़ में बनेगा फूड पार्क, ये है मेगा प्लान

बिहार में युवाओं को अच्छा रोजगार मिले इसके लिए सरकार काफी तैयारियां कर रही है। खासतौर पर चारों तरफ उद्योग को लेकर माहौल तैयार किया जा रहा है। ताकि भविष्य में युवाओं को नौकरी करने के लिए दूसरे राज्य ना जाना पड़े और सूबे में ही फैक्ट्री खुलने से नौकरी कर पाए।

मिली जानकारी के अनुसार मुजफ्फरपुर जिले के मोतीपुर प्रखंड में चार इथेनॉल फैक्ट्री पर काम चल रहा है। उद्योग विभाग के प्रधान सचिव संदीप पांड्रिक खुद राज्य में इथेनॉल फैक्ट्री के निर्माण की मॉनीटरिंग कर रहे हैं। प्रधान सचिव ने अपने ट्विटर अकाउंट से इथेनॉल फैक्ट्री की जानकारी साझा की है। यह फैक्ट्रियां जिले में इन्वेस्ट करने वाले उद्यमियों को प्रोत्साहित करने वाली है।

बिहार की चार लाख छात्राओं को मिलेगी बड़ी सौगात, इस दिन खाते में आएंगे 25 हजार

वहीं उन्होंने यह भी बताया कि बिहार के कई जिलों में इथेनॉल फैक्ट्री पर काम चल रहा है। मुजफ्फरपुर में कुछ इथेनॉल प्लांट का निर्माण अगले साल के जनवरी तक पूरा कर लिया जायेगा। अभी पहले से चार इथेनॉल फैक्ट्री पर काम चल रहा है। बियाडा के कार्यकारी निदेशक के मुताबिक, मोतीपुर में 800 एकड़ में उद्योग स्थापित करने की योजना है। इसके साथ ही 250 एकड़ भूमि में फूड पार्क के लिए मास्टर प्लान बनाया जा रहा है। फूड पार्क में 30 औद्योगिक यूनिट लगाने की तैयारी है।

सोशल मीडिया पर सरकार के इस पहल की काफी ज्यादा तारीफ हो रही है। कई लोगों ने प्रधान सचिव से मेगा टेक्सटाइल पार्क को लेकर सवाल किया है। इथेनॉल एक किस्म का अल्कोहल है। इसे पेट्रोल में मिलाकर वाहनों में फ्यूल की तरह उपयोग किया जा सकता है। मुख्य रूप से इथेनॉल का उत्पादन गन्ने की फसल से होता है, लेकिन कई दूसरे फसलों से भी इसे बनाया जा सकता है । यह खेती और पर्यावरण दोनों के लिए लाभदायक होता है।