National बिहार

बिहार के छात्र-छात्राओं को लगा तगड़ा झटका, सर्टिफिकेट निकालने के लिए जेब करनी पड़ेगी ढीली, शिक्षा विभाग…

बिहार के इंटर मैट्रिक पास कर चुके छात्र-छात्राओं के लिए बड़ी खबर सामने आ रही है या यह कहे कि उनकी जेब काफी ढीली होने वाली है। बिहार बोर्ड ने एक बड़ा फैसला लिया है। जिस वजह से छात्रों के ऊपर खर्चा बढ़ने वाला है। बिहार विधालय परीक्षा समिति ने बोर्ड से दूसरी बार अंकपत्र या सर्टिफिकेट निकालने पर प्रोसेसिंग फी (प्रक्रिया शुल्क) लेने का फैसला किया हैं।

दरअसल बिहार बोर्ड ने यह नियम तब लागू किया हैं, जब हाल-फिलहाल में नौकरी पाने में सफलता मिलने के बाद उम्मीदवार बोर्ड में सालों पुराने सर्टिफिकेट निकालने के लिए पहुंच रहे हैं। बोर्ड ने सर्टिफिकेट निकालने के लिए फीस बढ़ाने के नियम को लागू कर दिया हैं।

बिहार के इन जिलों में जमीन रजिस्ट्री कराने वालों को मिली सौगात, बसों में कर पाएंगे फ्री यात्रा, जानिए नियम

बता दें, बिहार बोर्ड के नियम लागू होने के बाद अब 15 वर्ष या 15 वर्षों के बाद के सर्टिफिकेट निकालने के लिए 2500 रूपए देने होंगे। वहीं सन् 1980 के पहले वाले विधार्थी अगर अपना सर्टिफिकेट निकालते हैं तो इसके लिए प्रोसेस शुल्क भरना पड़ेगा। मालूम हो कि पहले बिहार बोर्ड द्वारा प्रोसेस शुल्क नहीं ली जाती थी। 16 सितंबर को बोर्ड के सचिव ने नये नियम के तहत प्रोसेसिंग फी को लागू कर दिया हैं।

BSEB ने मैट्रिक और इंटर के सर्टिफिकेट निकालने के लिए फी भी तय कर दी है। देखिए नये शुल्क के मुताबिक 15 वर्ष साल या उससे ज्यादा पुराने सर्टिफिकेट/मार्कशीट के लिए- 2500 रुपये प्रोसेसिंग फीस,
10 साल पुराने सर्टिफिकेट/मार्कशीट निकालने पर- 1,000 रुपये प्रोसेसिंग फीस,
5 साल पुराने सर्टिफिकेट/मार्कशीट निकालने पर- 500 रुपये प्रोसेसिंग फीस,
परीक्षा वाले साल में दूसरी बार सर्टिफिकेट/मार्कशीट लेने पर- 200 रुपये प्रोसेसिंग फीस,
तत्काल के लिए 500 रुपया प्रोसेसिंग फीस,
सर्टिफिकेट के लिए- 175 रुपये,
मार्कशीट के लिए- 125 रुपये,
एडमिट कार्ड के लिए- 100 रुपये चार्ज लगेंगे